गाय के सामने विज्ञान भी हुआ नतमस्तक, अनेकों बिमारियों से रक्षा करती है गाय

1
22720

cows

हिन्दुस्तान में आजकल गाय को लेकर तीखी बहस जारी है | देश कई हिन्दू और सामाजिक संगठन गाय को राष्ट्रीय पशु का दर्जा दिलाने की अपील कर रहे है तो वही देश की कई राजनैतिक पार्टियाँ इसे बीजेपी का एक राजनैतिक एजेंडा करार देकर नकार भी रही है | लेकिन इन सबसे वैज्ञानिकों ने गाय के ऊपर अनेकों शोध करके यह साबित कर दिया है कि गाय मनुष्य और समाज, प्रकृति के लिए सचमुच किसी वरदान से कम नहीं है |

कुछ वैज्ञानिक शोधों ने गाय के ऊपर शोध करके यह साबित कर दिया है कि गाय का दूध वास्तव में इंशान के लिए अमृत है | केवल यही नहीं की गाय का दूध ही इंशान के लिए अमृत बल्कि गाय का संपूर्ण अस्तित्त्व ही मनुष्य को अमरतत्व और निरोगी बनाये रखने में सहायक है | आइये जानते है गाय के भीतर पाय जाने वाले विशेष गुणों के बारे में –

वैज्ञानिकों ने अपने शोधों के द्वारा यह स्पष्ट किया है कि पूरी दुनिया में गाय के दूध में ही वह ताकत है जो सबसे ज्यादा तेजी के साथ रेडियों विकिरण से मनुष्य की रक्षा करती है |

वैज्ञानिक खोजों के अनुसार गाय का दूध याददास्त को बढाता है –

गाय के दूध का सेवन करने वाले ब्यक्ति को दिल की बीमारियाँ नहीं होती है | क्योंकि गाय के दूध के भीतर वह तत्व पाए जाते है जो कि मनुष्य को दिल की बिमारियों से रक्षा करते है |

ऑक्सिजन ही लेती है और ऑक्सिजन ही छोडती है –
वैज्ञानिकों ने अपने शोधों के बाद यह दावा किया है कि पूरे संसार में गाय ही एक ऐसा प्राणी है जो कि ऑक्सिजन ही ग्रहण करता है और ऑक्सिजन ही छोड़ता है | ज्ञात हो कि यहाँ तक कि मनुष्य के भीतर भी यह गुण नहीं होता है | मनुष्य ग्रहण तो ऑक्सिजन करता है लेकिन छोड़ता कार्बन डाई ऑक्साइड है |

गाय के गोबर से मर जाते है टीवी और मलेरिया के कीटाणु –
इटली के मशहूर वैज्ञानिक प्रोफ़ेसर जीई बिगेड ने गाय के गोबर के ऊपर अनेकों शोध करने बाद दावा किया है कि गाय के ताजे गोबर से टीवी और मलेरिया के कीटाणु मर जाते है |

गाय के शरीर पर हाथ फिराने से ब्लडप्रेशर में होता है लाभ –
वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि गाय के शरीर पर प्रतिदिन मात्र 25-30 मिनट तक हाथ फिराने से मनुष्य को ब्लड प्रेशर की समस्या से निजात मिल जाता है |

गाय के ताजे गोबर की गंध से छय के कीटाणु पूर्णतः मर जाते है | यदि किसी भी ब्यक्ति को छय रोग की समस्या है तो उसे कुछ दिनों तक गाय के तबेले में यदि रखा जाय तो उसे छय रोग से आज़ादी मिल जाती है | वह ब्यक्ति पूर्णतः ठीक हो जाता है |

1 तोले घी से बनती है 1 टन ऑक्सिजन –
वैज्ञानिक शोधों के अनुसार यह कहा गया है कि यदि गाय के मात्र 1 तोले घी से यदि हवन की जाती है तो कम से कम 1 टन ऑक्सिजन बनती है | यह बात तो आपको बताने की आवश्यकता ही नहीं है कि ऑक्सिजन को हमारी पृथ्वी पर प्राणवायु कहा जाता है यानिकी ऑक्सिजन के बगैर जीवन संभव ही नहीं है |

हैजे के रोगी को भी बचाता है गाय का गोबर –
गाय के गोबर के ऊपर हुए शोधों में यह दावा किया गया है कि गाय का गोबर न केवल मनुष्य को टीवी, मलेरिया और छय रोग से ही बचाता है बल्कि गाय का गोबर हैजे के कीटाणुओं को भी पूर्णतः नष्ट कर देता है |

आँखों की रौशनी बढ़ता है गाय का दूध –
गाय का दूध आँखों के लिए बेहद लाभदायक होता है यह बात भी वैज्ञानिक शोधों से स्पष्ट हो चुकी है | वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि गाय के दूध में केरोटीन नामक पदार्थ पाया जाता है जिससे आँखों की रौशनी बढती है | अतः इससे एक बात और स्पष्ट हो जाती है कि जिन बच्चों के आँखों कि रौशनी गड़बड़ होती है अगर उन्हें लगातार गाय का दूध पिलाया जाय तो उन्हें निश्चित ही लाभ मिलेगा |

दाद, खाज में भी लाभदायक है गाय का गोबर –
वैज्ञानिकों ने स्पष्ट किया है कि गाय के गोबर को मनुष्य के शरीर पर जहां दाद, खाज, खुजली या फिर कोई चोट लगी हो वहां पर लगाने से उन्हें तुरंत लाभ मिलता है |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

1 COMMENT

LEAVE A REPLY