रखरखाव के अभाव में दुदर्शाग्रस्त हो गए लाखों की कीमत के डिवाइडर

0
176

नगर पालिका द्वारा शहर को सुंदर व व्यवस्थित बनाने के लिए प्रयास तो किए जा रहे हैं पर तैयारी पूरी न होने व योजना पर व्यापक रूप से चर्चा न हो पने के कारण यह प्रयास सरकारी धन की बर्बादी साबित हो रहे हैं। पालिका द्वारा शहर में डिवाइडर के नाम पर अब तक लाखों रुपए पानी की तरह बहा दिए गए लेकिन नतीजा सिफर रहा। हालत यह है कि शहर में राजमार्ग पर रखे सीमेंटेड डिवाइडर रखरखाव के अभाव में दुदर्शाग्रस्त हो गए हैं जिस पर अभी तक ध्यान नहीं दिया जा रहा है।

शहर में यातायात व्यवस्था लंबे समय से पटरी से उतरी हुई है। प्रशासन के पास इस व्यवस्था को सही करने के लिए कोई व्यापक योजना नहीं है जिसके चलते समय-समय पर इसमें सुधार के लिए प्रयास तो किए जाते हैं पर तैयारी व योजना पूरी न होने के कारण इन प्रयासों के नतीजे सिफर ही रहते हैं। इन्हीं प्रयासों के तहत शहर की यातायात व्यवस्था को व्यवस्थित करने के लिए नगर पालिका द्वारा डिवाइडर के नाम पर रुपयों की बर्बादी की जा रही है। पालिका द्वारा पहले लोहे के डिवाइडर लगवाए गए पर कुछ ही दिनों में यह डिवाइडर चोरों की नजरों में आ गए और रातोंरात लापता हो गए। इसके बाद पालिका ने सीमेंटेड डिवाइडर लगवाए और लाखों रुपए खर्च भी कर दिए। कुछ दिनों तक तो व्यवस्था संभलती हुई नजर आई पर इसके बाद हालात फिर जस के तस हो गए। अब हालत यह है कि आधे से ज्यादा डिवाइडर दुर्दशा का शिकार हो चुके हैं और क्षतिग्रस्त भी हो चुके हैं। स्थानीय लोग अपनी सुविधा के अनुसार इन डिवाइडरों को अपने मन के अनुरुप चाहे जहां रख लेते हैं। स्थानीय लोगों ने मांग की है कि शहर की यातायात व्यवस्था को सुदृढ़ बनाने के लिए व्यापक स्तर पर प्रयास किए जाएं।

रिपोर्ट – अनुराग श्रीवास्तव

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY