IAS ने की थी डेढ़ करोड़ की रिश्वत डील, 20 लाख और दो किलो सोना बरामद

0
160

प्रतीकात्मक
प्रतीकात्मक

छत्तीसगढ़ : भाजपा के सरकार के मुख्यमंत्री के द्वारा ऐसे वरिष्ठ आईएएस अधिकारी जिसके खिलाफ पहले भी ईओडब्लू व एसीबी के द्वारा छापा मार कर आय से अधिक मामला दर्ज किया गया था परन्तु उक्त अधिकरी के खिलाफ रमन सरकार कार्यवाही करने के बजाय उसे सभी मामलों मे बरी कर उल्टा उसे पदोन्नती देकर प्रमुख सचिव बना कर बैठा दिया गया इससे आज साफ हो गया इस रमन सिंह व पुरा मंत्री मंडल और सभी वरिष्ट अधिकारीयों की मिली भगत से भरष्टाचार को प्रश्रय देकर भ्रष्टाचार कराय जा रहा है यह कोई पहला मौका नही है पहले भी आई ए एस और आई पी एस के भ्रष्टाचार के मामले मे रमन सिंह जी का भ्रष्टाचारी चेहरा सामने आ चुका है । वरिष्ठ आईएएस बीएल अग्रवाल ने सीबीआई में अपने खिलाफ दर्ज मामले निपटाने के लिए डेढ़ करोड़ रुपए की रिश्वत सीबीआई अफसरों को देने का सौदा किया था। इस मोटी रकम के लेनदेन में हवाला कारोबारी की मदद ली गई। सीबीआई ने छापा कार्रवाई के बाद आईएएस अग्रवाल और दो अन्य व्यक्तियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

छत्तीसगढ़ के सीनियर IAS बीएल अग्रवाल के घर पर CBI छापा
सीबीआई ने शनिवार रात को रायपुर में अग्रवाल के देवेन्द्र नगर स्थित निजी आवास पर छापा डाला था। यह कार्रवाई अभी तक जारी है। वे सरकारी आवास की बजाय इस आलीशान में रहते थे। छापे की यह कार्रवाई नोएडा और हैदराबाद में उन ठिकानों पर भी की गई, जहां से रिश्वत की राशि सीबीआई अफसरों तक पहुंचनी थी। हवाला कारोबारी के रायपुर स्थित आवास पर भी छापे मारे गए।

सीनियर IAS बीएल अग्रवाल के खिलाफ CBI ने किया केस दर्ज, पूछताछ जारी
सीबीआई प्रवक्ता ने बताया, वर्तमान में छत्तीसगढ़ के उच्च शिक्षा विभाग में प्रमुख सचिव के रूप में नियुक्त बीएल अग्रवाल ने सीबीआई में उनके खिलाफ दर्ज मामले को रफा-दफा करने के लिए बिचौलिए से डेढ़ करोड़ रुपए देने का सौदा किया था। यह राशि रायपुर के हवाला कारोबारी के जरिए संबंधित व्यक्ति तक पहुंचनी थी। रिश्वत की पहली किश्त के रूप में 45 लाख रुपए हवाला कारोबारी को सौप दिए गए थे। छापे में सामने आया कि यह राशि हवाला कारोबारी के जरिए दिल्ली में एक प्राइवेट व्यक्ति को दी जानी थी। इसका 20 लाख रुपए नोएडा के व्यक्ति को पहुंचा भी दिए थे।

प्रवक्ता के अनुसार, बाकी की राशि हैदराबाद के व्यक्ति के जरिए सबंधित तक पहुंचनी थी। छापे में उजागर हुआ कि रिश्वत का यह भाग दो किलो सोने के रूप में हैदराबाद के व्यक्ति को देना था। यह सोना बीएल अग्रवाल के साले से मिलना था। छापे में यह सोना रायपुर में ही बरामद हो गया। सीबीआई ने 20 लाख रुपए नोएडा से बरामद किए। 

रिपोर्ट–हरदीप छाबडा

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY