17 पुलिसकर्मियों ने दो बदमाशों को पकड़ा एक फरार- कैसे ?

0
108

गाजीपुर(ब्यूरो)- वाह रे! बहादुर गाजीपुर की पुलिस, 17 पुलिस वालें मिलकर तीन में से केवल दो बदमाशों को पकड़ पायें और तीसरा फरार हो गया। इसी जाबांज पुलिस के बल पर सीएम योगी गाजीपुर में चुस्‍त-दुरूस्‍त कानून व्‍यवस्‍था की बात करते है। वही पुलिस कप्तान द्वारा फरियादियों की फरियाद ठीक तरह से न सुन कर उसे केवल आश्वासन दिया जाता है |

गुरूवार को पुलिस कार्यालय में आयोजित पत्रकार वार्ता में पुलिस अधीक्षक सोमेन वर्मा ने मीडिया से रूबरू होते हुए कहां की नौ जून को सैदपुर थाना अंर्तगत नेवादा नहर के पास राजेंद्र हत्‍याकांड का खुलासा करते हुए बताया कि 14 जून को मुखबिर की सूचना पर सैदपुर पुलिस टीम और क्राइम ब्रांच की टीम ने औडि़हार श्‍मसान घाट के पास दो मोटर साइकिल सवार तीन व्‍यक्तियों को दबोचना चाहा| जिसमें दो व्‍यक्ति असलहा व मोटर साइकिल सहित गिरफ्तार हो गये और तीसरा भागने में सफल हो गया। पुलिस कप्‍तान द्वारा जारी पुलिस टीम के नामों में कोतवाल सैदपुर त्रिलोकी सिंह, उपनिरीक्षक तेजबहादूर सिंह क्राइम ब्रांच, उपनिरीक्षक सैदपुर शैलेष यादव, उपनिरीक्षक अजय पांडेय सैदपुर, हेड कांस्‍टेबल संजय कुमार पटेल, सिपाही नरेंद्र बहादूर सिंह, पवन यादव, रामप्रसाद सिंह, जितेंद्र कुमार यादव, भाई लाल सोनकर, संजय प्रसाद, विकास श्रीवास्‍तव, दिनेश यादव, आशुतोष सिंह, कमलेश यादव, प्रवीन सिंह, मल्‍लू सिंह हैं। पुलिस कप्‍तान ने पुलिस टीम को पांच हजार रूपये नकद इनाम की घोषणा की है।

क्षेत्र में इस बात की चर्चा है कि 17 पुलिस मिलकर तीन बदमाशों को पूरी तौर से गिरफ्तार नही कर पायें। दो को तो हिरासत में लिया लेकिन तीसरा भागने में कैसे सफल हो गया। प्रेस कॉन्फ्रेंस में पकड़े गए अपराधियों से पूछताछ करनी भी नहीं दिया जाता की कहां से और कैसे गिरफ्तारी हुई, उस पर से कप्‍तान महोदय ने इनको पुरस्‍कार भी दे दिया।

गाजीपुर पुलिस की लीला संदेह के घेरे में चल रही है अपराधी बेखौफ है
एक अन्य समाचार के अनुसार गाजीपुर पुलिस अधीक्षक से पीड़ित व्यक्ति गुहार लगाता है तो केवल जांच का आदेश दिया जाता है जाच होते-होते कितने दिन बीत जाएंगे कुछ कहा नहीं जा सकता| पीड़ित व्यक्ति कार्रवाई का इंतजार करते-करते आस लगाए बैठा बैठा रहता है, यह है गाजीपुर की कानून व्यवस्था!

रिपोर्ट- रविंद्रनाथ सिंह

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY