मानसून की पहली बारिश में विद्युत् व्यवस्था चौपट

0
41

हसनगंज/उन्नाव (ब्यूरो) मानसून की पहली ही बारिश में विद्युत् व्यवस्था चौपट हो गयी 72 घंटे बाद भी बिजली कब आयेगी, इस पर दूर-दूर तक अधिकारियो की चुप्पी नहीं टूट रही है। आटा चक्की मे ताला लगा हुआ है। हसनगंज पावर हाउस के छह फीडरों से लगभग तहसील के 300 गाँवो की विद्युत् की रोशनी के लिये तरसना पड रहा है वहीं अन्य धंधो के साथ-साथ मुख्य रूप से चार दिनों से आटा चक्कियों में ताला लगा हुआ है । जिससे खुद के गेहूँ की पिसाई न होने से दुकानो का सहारा लेना पड रहा ।

बताते चलें कि विधुत विभाग की खाऊ कमाऊ नीति के चलते जर्जर पुराने तारो व संयंत्रों पर लाखों रूपये खर्च होने के बाद भी सुधरने का नाम नहीं ले रहे हैं। जहाँ एक तरफ योगी सरकार नगर को बीस व गाँवो को अठारह घंटे विधुत सपलाई का फरमान जारी किया गया है तो वही बिजली विभाग के पास घंटो में भी सप्लाई न होने से सभी सरकार के आदेश निर्देश बौने साबित हो रहे है। अभी तो चार दिनों से मानसून की पहली बरसात शुरू हुई है लेकिन सभी विधुत विभाग के दावों की पोल खुल रही है पमेधिया गाँव की प्रधान प्रतिनिधि गोविंद प्रसाद, तुषार अवसथी, देवेंद्र कुमार व अमोइया के अशोक अवस्थी, राजेश कुमार, वंशीधर आदि की माने तो डेढ महीने से विधुत सपलाई ध्वस्त है। ट्रांसफार्मर बदलते ही आये दिन फूंकते रहते हैं । जिसका विभागीय अधिकारीयों व कर्मचारियों को भाड़ा किराया देना ग्रामीणों को महंगा पड़ रहा है। इस पर जेई राजेश सैनी से संपर्क करने पर पहले तो उनका फोन ही न उठा कि बार कोशिश करने के बाद पूछने पर बताया कि बारिश होने से दिक्कतें ऊपर से हैं, ऊपर से ही खराबी होने से सप्लाई नहीं हो रही है।

रिपोर्ट – राहुल राठौर

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY