26 वर्ष पूर्व हुए गोलीकांड में शहीद हुए शहीदों की समाधिस्थल पर नहीं दे रहा है कोई ध्यान

0
64
अपेक्षित शहीद स्थल

सोनभद्र (ब्यूरो)- डाला सीमेंट फैक्ट्री में 26 वर्ष पूर्व अपनी मॉंग को लेकर चल रहे प्रर्दशन मे हुऐ गोली कान्ड में आज ही के दिन (2 जून) को नौ लोग शहीद हो गये थे। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार दो जून आते ही 26 वर्ष पूर्व हुऐ ह्रदय बिदारक घटना नगर के लोगो को झकझोर कर रख देती है डाला सीमेंट कारखाने को तत्कालीन सरकार ने निजीकरण करने का निर्णय लिया था। जिसका विरोध स्थानीय निगम के कर्मचारियों ने जम कर विरोध किया था जिसको लेकर तत्कालिन प्रदेश सरकार के इशारे पर आंदोलन को दबाने के लिये दोपहर 3 बजे आंदोलनकारियों पर गोली चलाने का आदेश दे दिया था, जिसमें सीमेंट कर्मचारी रामप्यारे कुशवाहा, शैलेन्द्र राय, सुरेन्द्र दुबे, दीनानाथ,नन्द कुमार गुप्ता, रामधारी, रामनरेश राम, बालगोविन्द एवं छात्र जय प्रकास उर्फ राकेश तिवारी शहीद हुये थे| अपनी मॉगों को लेकर एक साथ नौ लोगों की शहादत ही यहॉ के लोगों को क्रान्तिकारी बनाती है ।

डाला में जेपी सीमेंट फैक्ट्री, चेतक रोड निर्माण व ग्राम पंचायत मौजूद है उसके बाबजूद भी शहीद स्थल उपेक्षित है, यह चिंतनिय विषय है शहीद स्थल की समस्या को लेकर स्थानियों ने दर्जनो बार साकेंतिक प्रर्दशन किया था परन्तु ढाक के तीन पात वाली कहावत चरितार्थ हो रही है ।

शहीद स्थल के आस पास जमीनों को कब्जा करने का मामला भी समय-समय पर उछलता रहा परन्तु इस पर ध्यान किसी भी राजनैतिक पार्टी का ध्यान नही गया। स्थानियों ने जिलाधिकारी से कब्जाधारियों से जमीन खाली कराने की मॉग की है|

शहीदो की याद में प्रति वर्ष दो जून को पुण्य तिथि मनाया जाता है।जिसमे सुबह आठ बजे से दुर्गा सप्तशती पाठ ग्यारह बजे और सर्व धर्म सभा, 3.10 दोपहर सांकेतिक चक्का जाम, 3.20 दोपहर श्रद्धांजली अर्पित कि जायेगी तथा सायंकाल सुंदरकांड का भी आयोजन कर प्रसाद बितरण किया जाऐगा ।

रिपोर्ट – ज़मीर अंसारी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here