चली पीएम मोदी की लाठी, 72 निक्कमें अधिकारियों को किया बर्खास्त, 33 को जबरन रिटायर

0
10320

दिल्ली- भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी का नाम पूरी दुनिया में ऐसे ही नहीं दबंग और ईमानदार, शसक्त नेता के तौर पर नहीं जाना जाता है बल्कि उनकी कार्यशैली ही वैसी है, वे जो कहते है उसे कर दिखाने की भी क्षमता रखते है | इसका प्रत्यक्ष उदहारण अब सभी के सामने है | पीएम मोदी ने कहा था कि उनकी सरकार में जो भी अधिकारी सरकार और जनता के कामों करने में निक्कमा पन अपनाएंगे उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही की जायेगी अब उन्होंने यह करके भी दिखा दिया है |

टैक्स विभाग के इतिहास में पहली बार एक साथ 33 अधिकारियों को किया गया जबरन रिटायर –
देश के कर (टैक्स) विभाग के इतिहास में यह पहली बार हुआ है कि एक साथ इतने ज्यादा (33) अधिकारियों को समय से पहले ही रिटायर कर दिया गया हो | जबरन रिटायर किये जाने वाले इन 33 अधिकारियों में 7 अधिकारी तो क्लास 1 अधिकारी भी है | इन सभी अधिकारियों के ऊपर काम में कोताही बरतने, जनता को परेशान करने आदि, आदि के आरोप है | बताया जा रहा है कि प्रधानमंत्री मोदी को पिछले काफी दिनों से इन अधिकारियों के खिलाफ शिकायतें मिल रही थी | हाल ही में उन्होंने सभी विभागों के सचिवों को निर्देश भी दिए थे कि जो भी अधिकारी चाहे वो किसी भी पद पर हो और किसी भी ग्रेड का हो अगर वो अपने काम को पूरी ईमानदारी से नहीं करता है तो उसके ऊपर तुरंत ही कार्यवाही होनी चाहिए | प्रधानमंत्री के इसी आदेश के चलते 33 अधिकारियों को समय से पहले ही रिटायर किया जा रहा है |

पिछले 2 सालों में मोदी सरकार ने 72 नकारे अधिकारियों को बर्खास्त किया है –
प्राप्त जानकारी के आधार पर बताया जा रहा है कि पिछले 2 सालों के भीतर मोदी सरकार ने राजस्व विभाग से जुड़े 72 और अधिकारियों को बर्खास्त कर दिया है | बर्खास्त किये गए इन 72 अधिकारियों में 6 अधिकारी क्लास वन के भी है |

वित्त मंत्रालय ने दी कार्यवाही की जानकारी –
वित्त्र मंत्रालय ने जानकारी दी है कि पिछले 2 सालों में मोदी सरकार ने राजस्व विभाग के 72 अधिकारियों को बर्खास्त किया है जिनमें से 6 क्लास वन अफसर भी है | साथ ही वित्त मंत्रालय ने यह भी कहा है कि राजस्व विभाग के इतिहास में यह पहली बार हुआ है कि एक साथ 33 अधिकारीयों को उनके समय से पहले रिटायर किया जा रहा है जिनमें 7 क्लास 1 अफसर भी शामिल है | इन सभी आधिकारियों के खिलाफ पीएम मोदी को काफी दिनों से शिकायतें मिल रही थी | मंत्रालय ने यह भी कहा है कि ये कार्यवाही इसलिए भी आवश्यक थी क्योंकि अधिकारियों के मन में ऐसी धारणा बन गयी थी कि चाहे वे कुछ भी करें उनके खिलाफ कोई भी कार्यवाही नहीं होगी | लेकिन अब इस धारणा को मोदी सरकार बदल रही है | अब सरकार में वही लोग होंगे जो जनता के काम को समय से और पूरी ईमानदारी के साथ पूरा करेंगे |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here