वनांचल क्षेत्र में चल रहा आईपीएल क्रिकेट सट्टा का बड़ा जाल

0
294

छत्तीसगढ़(आपकी बात)- अंबागढ़ चौकी के वनांचल में चल रहा है क्रिकेट का बड़ा सट्टा, हाईटेक तरीके से चलने वाले इस सट्टे में अंचल के अमीर और गरीब तबके के लोगों से लेकर छोटे बच्चे व पढ़ने वाले छात्रों को भी अपनेे जाल में फसाया हुआ है। इस कारोबार में सटोरियों की जहाँ चांदी हो रही है वही कई लोगो के घर जमीन, गाड़ियां भी छीनी जा रही है। सटोरियों का इतना दबदबा है कि लोगो को अवैध ब्याज़ में फसा कर उनसे रकम वसूल किये जा रहे है।

सोचने की बात यह है कि इस क्षेत्र में चलने वाले सट्टे को चलानेे वालो का लिंक महानगरों तक है जो कि बड़े खाईवालों के लिए बतौर कमीशन काम करते है। पुलिस की माने तो समय समय में इन सटोरियों पर कार्यवाही भी की जाती है किंतु किसी कठोर कार्यवाही नहीं होने की वजह से ये अपना काम बडे ही मज़े से करते है।

डिब्बे की आवाज- खाईवालों की भाषा में क्रिकेट सट्टे के भाव को डिब्बे की आवाज बोला जाता है । आईपीएल क्रिकेट में सट्टे खाईवाल 20 ओवर को लंबी पारी , 10 ओवर को सेशन और 6 ओवर तक सट्टा लगाने वाले को छोटी पारी खेलना कहते है|

क्रिकेट सट्टे के कोडवर्ड- क्रिकेट सट्टे में जो दाव लगते है उसे खाईवालों ने कोडवर्ड दे दिया जैसे 1 लाख को एक पैसा , 50 हजार को अठन्नी , और 25 हजार को चवन्नी कहा जाता है| क्रिकेट पर सट्टे पर पैसे लगाने वाले को इनकी भाषा में फंटर और जो पैसे का हिसाब किताब रखता है उसे बुकी कहा जाता है| क्रिकेट सट्टा खाईवालों को फैलते हुए हाईटेक नेटवर्क के चलते इनको किसी प्रकार की परेशानी नही होती। किन्तु इस प्रकार से लोगो को इस लत में डालना और पढ़ने वाले छात्रों का भविष्य ख़राब करना एक बड़े अपराध की गाथा है। इस दिशा में पुलिस लगातार अपनी कारवाही करती है। ऐसे तो पूरे साल भर यह अवैध काम होता है किंतु 5 अप्रैल से होने वाले आईपीएल में यह नशा लोगो के सर चढ़ कर बोलता है। अब इस महासंग्राम में पुलिस का डर सटोरियों को कितना बेचैन करेगी यह तो देखने वाली बात होगी।

नए-नए मोबाइल नम्बरो से होने वाले इस कारोबार में लगाम डालना पुलिस के लिए भी सिरदर्दी बना हुआ है किंतु पुलिस अपनी पूरी तैयारी से इस अपराध को रोकने के लिए प्रतिज्ञाबद्ध है। वनांचल छेत्र में हाईटेक तरीके से मोबाईल द्वारा क्रिकेट सट्टा खाईवाल तैयारी कर के 5 अप्रेल का इंतजार कर रहे है । स्थानीय क्रिकेट सट्टा खाईवाल का नेटवर्क नोएडा, महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदेश से जुड़ा हुआ है| इस आईपीएल मैच का सभी को बेसब्री से इंतजार है लेकिन क्रिकेट सट्टा खाईवालों को ज्यादा इंतजार है , ये क्रिकेट सट्टा खाईवाल युवाओं को ज्यादा टारगेट में ले रहे है ।

ग्रामीण क्षेत्र में 3g,4g नेटवर्क बना क्रिकेट सटोरिये के लिए वरदान- अंबागढ़ चौकी व आसपास के ग्रामीण क्षेत्र में क्रिकेट सट्टा चलाने वाले सटोरिये के लिए वनांचल क्षेत्र में प्रारंभ हुई 4g नेटवर्क वरदान साबित हो रही है। पहले जहाँ इनके ग्राहकों को ख़राब नेटवर्क के चलते परेशानी होती थी अब वही वो बड़े आराम से देहातो में बैठ कर अपने काम को अंजाम देता है। पुलिस के पहुँच से दूर होने के कारण व अंचल के थानों से दूरी बनाकर ये महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ की सीमा पर बैठकर धड़ल्ले से अपने काम को बेख़ौफ़ चलाता है। सूत्रों की माने तो ये शहरो व् ग्रामीणों में अपने एजेंटो के माध्यम से अपना हिसाब किताब करता है। और खुद शहर से बाहर रहता है और जब काम पूरा हो जाता है तब शहर वापसी करता है|

हर गेंद पर होते है सौदे- क्रिकेट में जहाँ हर गेंद पर रन बनाने में खिलाडी अपना पसीना बहाते है वही सट्टेबाज हर गेंद पर लाखों का सट्टा लगाते है। इसे सेशन कहते है, इस सट्टे का नशा इतना वृहद रूप ले लिया है कि इस सट्टे के नशे में देहात व् शहर के लोग बुरी तरह से खाईवाल के जाल में फंस गए है। और अपना सबकुछ इनके नाम कर बैठे है। छात्र व् मजदुर सब कर्जदारइस सटोरिये के गुर्गे कमीशन के लिए छात्रों को तक इस लत में ले आये है थोड़े से लालच के लिए ये गुर्गे छात्रों को अपना शिकार बनाये हुए है जब हर जाने के बाद ये पैसे नहीं दे पाते तो उनके समान गिरवी रखे है।

मोबाईल नंबर बन जाते है vip- आईपीएल के महासंग्राम में अगर माने और इन सटोरियों के मोबाईल नंबर की जाँच किया जाये तो एक दिन में इनके नम्बरो में 500 से अधिक काल आने की संभावना होती है हर गेंद में सट्टे लगाने वाले तैयार खड़े होते है। फ़र्ज़ी नम्बरो का सहाराये सटोरिये अपना काम करने के लिए फ़र्ज़ी मोबाईल नम्बरो का सहारा लेते है ताकि पुलिस इनकी पहुच से दूर रहे जो की पुलिस के लिए सरदर्दी बना हुवा होता है| ये दुकान वालो से सेटिंग करके फ़र्ज़ी नम्बर लेते है जो किसी अन्य व्यक्ति के नाम पर होता है। नए नए नंबर व नए नए ठिकानो की तलाश में घूम रहे है। सटोरियों का इतना दबदबा है कि लोगो को अवैध ब्याज़ में फसा कर उनसे रकम वसूल किये जा रहे है।

रिपोर्ट-हरदीप छाबड़ा

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY