एक मुस्लिम देखता है, योगी आदित्यनाथ के मठ का फाइनेंस और उनकी गायें

0
466

गोरखपुर (ब्यूरो)– उत्तर प्रदेश के नए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भारत के प्रसिद्ध और बड़े मठों में से एक गोरख नाथ मठ के महंत हैं। वह हमेशा भगवा वस्त्र धारण करते हैं और उनकी छवि एक कट्टर हिंदू वाली दिखती है, लेकिन यदि बात हम उनके मठ की करें तो उनके मठ का माहौल आपकी सोच को बदल कर रख देगा।

दरअसल आप को बता दें कि, योगी आदित्यनाथ के इस मठ में कहीं भी संप्रदायिकता का एक भी कण भी आपको देखने को के लिए नहीं मिलेगा। इस मठ में तकरीबन 35 वर्षों से होने वाले किसी भी निर्माण कार्य, गायों की रखवाली आदि का कार्य मुस्लिम व्यक्ति की देखरेख में होता आ रहा है।

देश के प्रतिष्ठित अखबार नवभारत टाइम्स में छपी खबर के मुताबिक बताया जा रहा है कि योगी के गोरखनाथ मठ में होने वाले हर एक निर्माण कार्य और गायों की रखवाली सहित तमाम छोटे बड़े कार्यो की देखरेख कुछ मुस्लिम लोगों के कंधो पर है।

यासीन अंसारी रखते हैं मंदिर के खर्च का हिसाब किताब-
नवभारत टाइम्स की वेबसाइट पर छपी खबर के मुताबिक बताया जा रहा है कि यासीन अंसारी ने टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत के दौरान बताया की मेरे छोटे महाराज (मठ में योगी आदित्यनाथ को छोटे महाराज के नाम से पुकारा जाता है) के साथ बेहद ही दोस्ताना संबंध हैं उन्होंने अखबार के साथ बातचीत के दौरान बताया कि जब भी वह गोरखपुर में होते हैं, मुझे फोन करते हैं और मठ में होने वाले सभी कार्यों की पूरी जानकारी लेते हैं।

उन्होंने कहा कि मैं उनके घर में पूरी आजादी के साथ घूम सकता हूं, चाहे वह किचन हो या फिर उनका बेडरूम। मैं उनके साथ खाना भी खाता हूं। उन्होंने बताया कि मंदिर प्रांगण में कई ऐसी दुकानें हैं जिन्हें मुस्लिम समुदाय के लोग वर्षो से चलाते आ रहे हैं और आज तक कभी भी और किसी भी व्यक्ति के साथ योगी ने कोई भी गलत व्यवहार नहीं किया है। वह हर किसी को सामान दृष्टि से देखते हैं, चाहे वह व्यक्ति किसी भी धर्म या समुदाय से ताल्लुक क्यों न रखता हो वह उसके साथ समान व्यवहार करते हैं।

गरीबों के मसीहा हैं योगी आदित्यनाथ-
टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत के दौरान यासीन अंसारी ने कहा है कि मैंने उन्हें कई बार गरीबों की मदद करते हुए भी देखा है। जब कभी भी वह किसी गरीब की मदद कर रहे होते हैं, ऐसे में वही वह यह कभी नहीं देखते हैं कि वह व्यक्ति जिसकी वह मदद कर रहे हैं वह किस धर्म या फिर समुदाय से ताल्लुक रखता है। उन्होंने बताया की छोटे महाराज शादी समारोहो में भी सम्मिलित होने के लिए बेहद आतुर रहते हैं और वह जहां तक संभव होता है जहां भी वह पहुंच सकते हैं बहुत ही सद्भाव के साथ वहां पहुंचते हैं।

हर किसी को सम्मान देते हैं योगी- अजीजुन्निसा निशा
नवभारत टाइम्स की वेबसाइट पर छपी खबर के मुताबिक मंदिर परिसर में ही 35 वर्षों से दुकान लगाने वाली मुस्लिम महिला अजीजुन्निसा निशा का कहना है कि वह यहां बहुत समय से तकरीबन 35 वर्षों से दुकान चला रही और आज तक उन्होंने कभी भी यह महसूस नहीं किया है कि योगी आदित्यनाथ ने उनके साथ कभी भी और किसी भी प्रकार का कोई भी भेदभाव पूर्ण व्यवहार किया हो। वही मंदिर परिसर में तकरीबन 20 वर्षों से दुकान चला रहे मोहम्मद मुस्तकीम ने बताया की मंदिर के अंदर दुकान लगाने वालों तथा अन्य कामकाजों के लिए कई मुस्लिम परिवार हैं। वह यहां से अपनी रोजी-रोटी चला रहे हैं लेकिन उन्हें कभी भी ऐसा महसूस नहीं हुआ कि उनके छोटे महाराज यानी योगी आदित्यनाथ ने उनके साथ कभी भी और किसी भी प्रकार का कोई भी भेदभाव पूर्ण व्यवहार किया हो। उन्हें यहां पर किसी भी प्रकार का कोई भी भय नहीं है। वह सभी यहां स्वतंत्र माहौल में रह रहे और उन्हें योगी के cm बनने से बहुत खुशी है।

गायों की देखभाल करने वाला भी एक मुस्लिम है
यासीन अंसारी ने अख़बार के साथ बातचीत के दौरान बताया कि योगी आदित्यनाथ गायों से बहुत अधिक प्रेम करते हैं और मंदिर के पास अपनी 400 गाय रहती हैं। उन्होंने बताया कि इन गायों की देखभाल करने वाला मान मोहम्मद भी एक मुस्लिम व्यक्ति है। मान मोहम्मद से जब पत्रकारों ने बात की तो उन्होंने बताया कि यह काम पहले उनके पिताजी किया करते थे। अब वह खुद इस काम को करते हैं। उन्होंने कहा कि मैं प्रतिदिन सुबह 3:00 बजे उठकर गायों का दूध निकालता हूं उंहें चारा खिलाता हूं और हमारे छोटे महाराज हम सभी के साथ हमेशा एक समान व्यवहार करते हैं और वह हमारा ख्याल रखते हैं।

मंदिर में ही एक कमरे में रहते हैं योगी आदित्यनाथ-
यासीन अंसारी ने बताया कि योगी आदित्यनाथ मंदिर प्रांगण के एक कोने में ही बने एक छोटे से कमरे में रहते हैं। उन्होंने बताया कि उनके कमरे में अटैच वाशरूम तो है लेकिन वहां पर आपको कभी भी कोई भी नाही TV सेट नहीं दिखाई पड़ेगा और ना ही कोई रेडियो। उनकी अलमारियों में बड़े-बड़े धार्मिक ग्रंथ, महान लोगों की जीवनियां रखी हुई हैं। देश और दुनिया की तमाम खबरों तथा उनके साथ जुड़े रहने के लिए योगी केवल और केवल अखबार ही पढ़ते हैं। जिन्हें आप उनकी कुर्सी के बगल में क्रमबद्ध तरीके से रखा हुआ देख भी सकते हैं।

रिपोर्ट- जयप्रकाश यादव
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here