आबकारी अधिकारी बनकर पहुंचे बदमाश बलात्कारी नही निकले

0
81
प्रतीकात्मक फोटो

पुरवा/उन्नाव (ब्यूरो)- आबकारी अधिकारी बनकर पहुंचे बदमाश ब्लातकारी नही निकले। सामूहिक दुष्कर्म की पुष्टि डाक्टरी परीक्षण में नही हुई न ही जांच में महिला के शरीर पर एक भी चोट का निशान भी नही पाया गया। इस मामले पर क्षेत्राधिकारी का कहना है कि वह घटना की तह तक पहुच चुके है खुलासा शीघ्र ही करेंगे।

प्राप्त विवरण के अनुसार मंगलवार की रात कोतवाली क्षेत्र के गांव बिशुनखेड़ा में घटित घटना में दलित महिला द्वारा बतायी गयी जुबानी के अनुसार महिला के शिकायती-पत्र पर कोतवाली पुलिस ने गम्भीर धाराओ में अभियोग पंजीकृत कर महिला को डाक्टरी परीक्षण हेतु जिला अस्पताल भेजा गया था |
जहां डाक्टरी रिपोर्ट में ब्लातकार की पुष्टि नही हुई है नही महिला के शरीर पर चोट के निशान पाये गये जबकि पीड़िता छाया देवी पत्नी स्व0 राम मनोहर बदले हुये नाम ने होण्डा सिटीकार सवार बदमाशो ने देर रात तक चलती गाड़ी में बारी-बारी से ब्लातकार करते रहे।

बताते चले कि मंगलवार की रात लगभग 9 बजे काले रंग की होण्डा सिटी कार से तीन युवक कोतवाली क्षेत्र के गांव बिशुनखेड़ा पहुँचे जहां बीट के सिपाही व दरोगा योगेश सिंह के संरक्षण में छाया देवी कच्ची शराब बेचने का धन्धा करती थी। महिला व उसके सहयोगी राम किशोर उर्फ झूरी पुत्र लाल बहादुर के अनुसार कार सवार बदमाशो ने अपने आपको आबकारी विभाग का अधिकारी बताकर महिला के घर में धुसे झूरी के अनुसार महिला पुलिस समझ कर घर से भाग निकली पर उसका सहयोगी झूरी महिला के घर मामले की जानकारी के लिये पहुंच गया झूरी के अनुसार उक्त बदमाशो ने घर की तलासीली जहां उन्हें लगभाग 20 लीटर कच्ची शराब मिली थी तथा गल्ले में रक्खा दो हजार रूपया नगद भी उठा लिया था और झूरी को मार-पीट कर अपने साथ कार में बिठा लिया था तथा कुछ दूर जाने के बाद झूरी को मारपीट कर महिला को बुलवाया तथा 5000 रूपया की डिमाण्ड की महिला के आने पर उक्त कार सवार बदमाशो ने दोनो को कार में बिठा लिया कई जगह ले गये वापस लाकर गांव करीब पहुंचने पर पैसो की डिमाण्ड बढ़ गयी पैसो की डिमाण्ड 5 हजार से 60 हजार हो गयी जिस पर महिला ने गांव के कोटेदार झूरी के भाई राममोहन को पूरी बात बताई महिला के अनुसार महिला ने कहा हमारे मायके ग्राम भइयाखेड़ा थाना बीघापुर चलो वहां पर पैसे मिल जायेंगे।

बदमाश वहां महिला को लेकर गये पर महिला ने अपने मायके वालो को घटना के बारे क्यों नही बताया अब सवाल उठता है कि महिला के अनुसार बदमाश चलती गाड़ी से ढकेल दिया फिर महिला को कोई गम्भीर चोट नही आई वहीं इस सम्बन्ध में उपपुलिस अधीक्षक सुशील कुमार सिंह से जब पूछा गया तो उन्होंने प्रेस को मेडिकल रिपोर्ट दिखाते हुये बताया कि मेडिकल रिपोर्ट में सामूहिक दुष्कर्म की पुष्टि नही हुई न ही महिला के शरीर पर कोई चोट का निशान भी नही पाया गया। उनहोंने कहाकि घटना की तह तक पहुंच चुके है जल्द ही खुलासा करेंगे।

रिपोर्ट- मोहम्मद अहमद (चुनई)

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY