आखों के तारो की तलाश मे दो साल से भटक रही बिगनी

0
124

गोरखपुर (ब्यूरो)- उम्र ७० के पार है|राह चलते हाथ पैर कांपतें है रोते-रोते आखे पथरा गई है|गर्मी और बरसात की चिंता नही है|अब कड़ाके की ठंड में भी पांव नही रूक रही है| इस उम्मीद मे कि दो साल से दर-दर भटक रही है| इसी उम्मीद मे कि दो साल पहले बिछड़ी सात साल की रीना और पांच साल का राजू उसे मिल जायेगा| उम्र के अन्तिम पड़ाव पर वह उन्हें दुलार सकेगी|

गोरखपुर के चिलुआताल क्षेत्र के मानवेला निवासिनी बिगनी देवी टूट चुकी है|दो साल पहले वह अपनी पोती रीना व पोते राजू को लेकर पड़रौना मायके चली गई थी|खेलते-खेलते दोनों कही चले गये और गायब हो गये|

बिगनी दर-दर भटक रही है इस उम्मीद मे कि शायद कोई उसकी मदद करेगा उनके दोनो लाडले रीना और राजू कहीं किसी मोड़ पर मिल जायेगे|बिगनी सीवान तक खोजबीन कर चुकी है|
रिपोर्ट-जयप्रकाश यादव

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here