अपने आपको आम-आदमी कहने वाले अरविन्द केजरीवाल, कर रहे हैं जनता के पैसे की बर्बादी, अपने निजी लोगों को बाँट रहे हैं सरकारी पैसे से गाड़ी, मकान, ऑफिस और मोबाइल

0
193

manish sisodia

अपने आपको आम-आदमी, आम जनता का हमदर्द, देश से वी.आई.पी. कल्चर, भ्रस्टाचार को खत्म करने जैसी तमाम बड़ी-बड़ी बातें करने वाले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल की यह सच्चाई अगर आप जान जायेंगे तो आपके होश ही उड़ जायेंगे कि कैसे सरकारी पैसों को वह अपनी पार्टी और अपने पुराने सहयोगियों को दे रहे हैं फायदा I

आपको बता दें कि अपने आपको आम आदमी कहने वाले अरविन्द केजरीवाल ने सरकारी खर्चे पर 27 लोगों को अलग-अलग कामों के लिए अपने और अपनी पार्टी के साथ रखा हैं, जिन्हें मुख्यमंत्री जी अपने पास से नहीं बल्कि सरकारी पैसे यानि की दिल्ली की जनता के भरे हुए टैक्स के पैसे से उनकी तनख्वाह, मोबाइल, घर, गाडी, पर्सनल ऑफिस आदि का इंतजाम करते हैं I

आज यहाँ हम आपके सामने वह कुछ नाम लेकर आ रहे हैं, यह सब तो नहीं हैं लेकिन यह उन 27 में से कुछ जिससे आप यह अनुमान लगा सकते हैं कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल कैसे आम आदमी हैं, और इस आम आदमी के क्या-क्या और कैसे-कैसे खर्चे हैं ?

  • आपकी सरकार में यह पहले गैर सरकारी लेकिन सरकारी अफसरों से बढ़कर भी सुविधाओं का लाभ उठाने वाले –

नाम – विभव कुमार

पद – प्राइवेट सिक्रेटरी

प्रति माह सेलरी – तकरीबन 1,00,000 (1 लाख रूपये)

सुविधाएं – बंगला, ऑफिस, फोन आदि

यह आम आदमी अरविन्द केजरीवाल के बेहद करीबी माने जाते हैं !

 

आपकी सरकार की गैर सरकारी लेकिन सरकारी से भी अधिक दूसरी यह हैं –

नाम – अस्वाथी मुरलीधरन

पद – ज्वाइंट सेक्रेटरी

सेलरी – तकरीबन 1 लाख के आस पास इनकी भी

सुविधायें – इन्हें भी बंगला, ऑफिस और फ़ोन बिलकुल फ्री दिया गया हैं

अब आपकी इस सरकार के तीसरे ब्यक्ति हैं –

नाम – आशीष तलवार

पद – पॉलिटिकल एडवाइजर

सेलरी – 1,15,881

सुविधायें – इन्हें गाडी और ऑफिस दिया गया हैं

आपको बता दें कि आशीष तलवार आम आदमी के सबसे कद्दावर नेताओं में से एक गिने जाते हैं और देश भर में होने वाले चुनाओं में रणनीतियां बनाने में इन्हें काफी महारत हासिल हैं, अब सवाल यह कि क्या पार्टी के लिए काम करने वाले ब्यक्ति को भी सरकारी खजाने से ही पैसा दिया जाएगा I

 

इनके साथ ही साथ यह हैं –

नाम – स्वाती मालिवाल

पद – गेविएंसेस एडवाइजर

मासिक सेलरी – 1,15,881

सुविधाएं – इन्हें भी सरकारी खर्चे पर ही गाडी और ऑफिस मुहैया करवाया गया हैं I

आपको बता दें कि यह तो केवल 4 लोग ही हैं जिनके ऊपर सरकार इतना खर्च कर रही हैं अब हम आपको बता दें कि ऐसे कुल 27 लोग हैं जो कि सरकारी धन का यूँ कहें तो दिल्ली की जनता के धन को बर्बाद कर रहे हैं I

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

six + 20 =