आम तौर पर लोग चीजें जैसी हैं

0
247

आम तौर पर लोग चीजें जैसी हैं

उसके आदी हो जाते हैं और बदलाव के विचार से ही

काँपने लगते हैं I हमें इसी निष्क्रियता की भावना को क्रांतिकारी भावना से बदलने की जरूरत हैं !


जो ब्यक्ति विकास के लिए खड़ा हैं

उसे हर एक रूढ़िवादी चीज की आलोचना करनी होगी

उसमें अविश्वास करना होगा और इसे चुनौती भी देनी होगी !!

bhagat singh5

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

1 × 2 =