अब मऊ में भी शुरू हो सकती है सेना भर्ती परीक्षा

0
1059

युवाओं के ऊपर अक्सर यह आरोप लगता है कि वह सिर्फ हनुमान का ही काम कर सकते है लेकिन सच्चाई यही नहीं है कि युवा सिर्फ हनुमान बन लंका ही जला सकते है बल्कि वह बहुत धैर्य से अपनी बात भी रख सकते है I इस बात का प्रत्यक्ष प्रमाण उत्तरप्रदेश के मऊ जिले में देखने को मिला है जहाँ भर्ती की परीक्षाओं को लेकर जिले के सैकड़ों युवा धरना दे रहे थे I

सेना भर्ती को लेकर धरना देते हुए युवा
सेना भर्ती को लेकर धरना देते हुए युवा

इन आन्दोलनकारी युवाओं का नेत्रत्त्व कर रहे ओमकार राय लिखते है कि, “सेना में भर्ती के लिए हो रही परीक्षाओं को लेकर बीते एक हफ्ते से युवाओं का एक समूह हमारे सम्पर्क में था, युवाओं का कहना था कि उन्हें दूर-दूर के अलग-अलग शहरों में सेना में भर्ती होने के लिए जाना पड़ता है जबकि केवल मऊ से ही अनगिनत बच्चे इस परीक्षा में सम्मिलित होते है I युवाओं की यह मांग थी कि उनके जिले में भी सेना भर्ती की व्यवस्था करवाई जाय जिससे अधिक से अधिक युवाओं को सेना में सम्मिलित होने का सुअवसर भी मिल सके और सुविधा भी हो सके I ओमकार राय लिखते है कि उनकी मांगो को लेकर कल एक विशाल अनशन प्रदर्शन किया गया जिसमें सैकड़ों युवाओं द्वारा अपनी मागों को लेकर अनशन किया गया I

मऊ जिले में सेना की भर्ती को लेकर धरने पर बैठे युवा
मऊ जिले में सेना की भर्ती को लेकर धरने पर बैठे युवा

युवाओं ने अपनी मांगो को दोहराते हुए जिला प्रशासन को बताया है कि, “अगर बाकी जिलों की अपेक्षा मऊ की माँग नही सुनी गयी तो मऊ के सभी युवा आज से ठीक 7 दिनों के बाद जिला क्लेट्रेट के सामने आमरण अनशन करने के लिये बाध्य होगें I

आन्दोलन के नेत्रत्त्व्कर्ता ओमकार राय ने बताया कि जब वह और उनके साथ उक्त मागों को लेकर धरने पर बैठे हुए तब इस धरने को समाप्त करने के लिये पहले थाना दक्षिणटोला के थानाध्यक्ष द्वारा युवाओं पर दबाव बनाया गया पर आन्दोलन का नेतृत्व कर रहे ओमकार राय ने अपने युवा साथियों के साथ जब हुँकार भरी तो थानाध्यक्ष तत्काल उच्च प्रशासनिक अधिकारियों को इस पूरे मामले पर अवगत करवाया जिसके बाद जिला प्रशासन के आला अधिकारी मौके पर पहुंचे I

बाद में अधिकारियों और आन्दोलन का नेत्रत्त्व कर रहे युवाओं ओमकार राय, दिव्येन्दु राय , अनूप खरवार , संजीव राय, अमरजीत ,मनीष, रीशू, राकेश , सोनू यादव , राहुल, राकेश,बबलू आदि से बात की जिसके बाद उनकी मागों को SDM , सिटी मजिस्ट्रेट और उसके बाद एक प्रति सांसद घोसी को भी दी गयी I

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY