रामलीला मंचन में ‘सीता की खोज’ तथा ‘लंका दहन’ की लीला का मंचन

0
167

जालौन : ग्राम कुंवरपुरा में आयोजित श्रीरामलीला मंचन में ‘सीता की खोज’ तथा ‘लंका दहन’ की लीला का मंचन किया गया। जिसमें ‘मेघनाद’ तथा ‘हनुमान’ के बीच हुए संवाद को उपस्थित दर्शकों ने जमकर सराहा।

क्षेत्रीय ग्राम कुंवरपुरा में आयोजित रामलीला मंचन में लंका दहन की लीला का मंचन किया गया। जिसके प्रथम दृश्य में हनुमान जी लंका में सीताजी की खोज करने जाते हैं। वहां पर अशोक वाटिका में बैठी माता सीता को राक्षसियों द्वारा परेशान करने तथा उन्हें तरह-तरह की यातनायें दिए जाने का दृश्य हनुमान जी ने देखा। तभी, कुछ क्षण बीतने के बाद हनुमान ने प्रभु श्रीराम द्वारा दी गई मुद्रिका को माता सीता के सामने जमीन पर डालकर उन्हे अपना परिचय दिया। इसके बाद अशोक वाटिका में मां सीता की आज्ञा लेकर वह फल खाने के लिए चले गए। जहां पर उन्होंने कुछ फल तोड़े तो कुछ वृक्षों को भी तोड़ा। उनको रोकने के लिए अशोक वाटिका के पहरेदारों ने प्रयास किया। लेकिन, हनुमानजी को वह रोक नहीं सके। तब इसकी सूचना रावण को दी गई। जिस पर रावण ने अपनी सेना के साथ पुत्र अक्षय कुमार को हनुमानजी को रोकने के लिए भेजा। हनुमानजी ने रावण के पुत्र को मारक र पूरी सेना परास्त कर दी। इसकी सूचना जैसे ही रावण को मिली तो उसने क्रोध में आते हुए मेघनाथ को हनुमानजी को पकड़कर उसके समक्ष लाने का आदेश दिया। इसके उपरांत हनुमान को पकड़ने के लिए गए मेघनाथ तथा हनुमान के बीच हुए संवाद की उपस्थित दर्शकों ने काफी सराहना की।अंत में मेघनाथ, हनुमान जी को ब्रह्मास्त्र में बांधकर अपने पिता रावण के पास ले जाता है। जहां पर हनुमानजी की उद्दंडता पर सभी उनकी पूंछ में आग लगाए जाने का सुझाव देते हैं। जिसके बाद सभी राक्षस मिलकर हनुमानजी की पूंछ में आग लगा देते हैं। पूंछ में आग लगते ही हनुमानजी ने उसी समय लघु रूप धारण कर लिया। और लंका के घरों में कूद-कूदकर लंका के सभी महलों तथा घरों में आग लगा दी।

रिपोर्ट – अनुराग श्रीवास्तव

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY