आदिवासी बाहुल्य पूरा मोहुलबोना गांव है शौचालय विहीन

0
170

झारखण्ड(प्रदेश ब्यूरो)- जामा प्रखंड अंतर्गत मोहुलबोना पंचायत के बेलकूपी गांव में शौचालय का अभाव रहने से ग्रामीणों को काफी कठिनाई का सामना करना पड़ता है। एक तरफ जहां भारत सरकार स्वच्छ भारत का नारा लगा रही है तो वहीं दूसरी तरफ भाजपा के स्थानीय नेता एवं पूर्व विधानसभा प्रत्याशी सुरेश मुर्मू के गांव बेलकूपी में स्वच्छ भारत मिशन का मुख्य अस्त्र यानी शौचालय का अभाव देखा जा रहा है।

तीन टोला में बँटे लगभग सवा सौ घरों वाले इस आदिवासी बहुल गांव में एक भी शौचालय नहीं है। इस बाबत अगस्टिन मरांडी, सुशील टुडू, ढेना मरांडी आदि ग्रामीणों का कहना है कि इतनी घनी आबादी वाले गांव में चापानल की तो कमी नहीं है परंतु एक भी शौचालय न होना शर्मनाक है। शौचालय की सुविधा नहीं रहने से लोगों को खुले में शौच के लिए जाना पड़ता है खासकर महिलाओं एवं बुजुर्गों को काफी परेशानी और शर्म महसूस होती है। लोगों की माने तो स्थानीय नेता और जनप्रतिनिधियों द्वारा इस संबंध में कोई ठोस कदम नहीं उठाया जा रहा है।

रिपोर्ट- धनञ्जय कुमार सिंह
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here