री-एडमिशन व टर्मिनल फीस को समायोजित करें स्कूल

0
81

बलिया(ब्यूरो)- प्रभारी जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी सुबास गुप्त ने हिन्दी तथा अंग्रेजी माध्यम के समस्त सहायता व मान्यता प्राप्त स्कूलों के प्रबंधकों/प्रधानाध्यापकों को सात विन्दुओं पर पत्र जारी किया है। कहा गया है कि एक ही विद्यालय में एक ही छात्र से अगली कक्षा में प्रवेश लेने पर प्रतिवर्ष री-एडमिशन, टर्मिनल, एनुअल, समारोह व डेवलपमेंट के नाम पर भी अभिभावकों से मोटी रकम वसूली जाती है, जो गलत है। यही नहीं, सुप्रीम कोर्ट व सरकार के आदेशानुसार भी अधिकतर निजी विद्यालयों द्वारा 25 प्रतिशत सीट पर 14 वर्ष से कम आयुवर्ग के बच्चों को अनिवार्य एवं मुफ्त शिक्षा नहीं दी जा रही है, जो सीधा सीधा आरटीई एक्ट का उल्लंघन है।

इसके अलावा निजी विद्यालयों के अधिकतर शिक्षक कोचिंग के नाम पर मोटी रकम अभिभावकों से वसूल रहे है। बीएसए ने निजी स्कूलों के प्रबंधकों एवं प्रधानाध्यापकों से कहा है कि जिन छात्र-छात्राओं से पुन: नामांकन शुल्क लिया गया हो , उसे तत्काल अग्रिम मासिक शुल्क के रूप में समायोजित करें, ताकि अभिभावकों पर अतिरिक्त भार की स्थिति उत्पन्न न हों।

रिपोर्ट-संतोष कुमार शर्मा

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY