राशन डीलरों की मनमानियों के आगे प्रशासन बौना

0
76

अजीतमल/औरैया(ब्यूरो)- अजीतमल तहसील के ईमानदार डीलरों को नोटिस तथा बेईमान डीलरों को तोहफे में दूसरे पंचायतों के कोटे संबद्य!

बाबरपुर देहात की राशन डीलर साबित्री देबी की राशन की दुकान के आबंटन के रेट खाद्य विभाग की मिली भगत के चलते अन्त़्योदय कार्ड धारक को 19 किलो गैहू व 14 कि. चावल 95 रू में दिये जाते हैं जबकि मानक के हिसाब से 20 कि. गैहू व 15 कि. चावल की कीमत 85 रू होनी चाहिये|

अन्त्योदय कार्ड पर मिट्टी का तेल 4 ली. 89 रू का होता है लेकिन इस डीलर के यहॉ पिछले अप्रैल व मई माह में मात्र 1-1ली तेल 25 रू ली के हिसाब से दिया गया| वही पात्र गृहस्थी के उप भोक्ता को मात्र 1.50 ली मिट्टी का तेल 38 रू में दिया जा रहा है जबकि शासन द्वारा 3 माह से अन्त्योदय कार्ड पर 4 ली व पात्र गृहस्थी पर 2 ली मिट्टी का तेल वितरण होना चाहिये जि सरकारी मूल्य 22.16 रू प्रति ली है|

खाद्यान व मिट्टी का तेल भी कम व रू भी अधिक ऊपर से दूसरी दुकान का तोहफा l ये खाद्यान विभाग की मिली भगत नहीं है तो क्या है ? वहीं सरॉय इमलिया के राशन डीलर को 23 रू ली पर मिट्टी का तेल बेचने पर नोटिस जारी किया गया है|

क्षेत्र के अधिकॉश डीलर 24 तथा 25 रू ली. मिट्टी का तेल उपभोक्ताओं को बेच रहे हैंl  इसे खाद्य विभाग की मेहरबानी कहा जाये या कमाई का साधन कहा जाये l वहीं राशन डीलरों का कहना है कि –
1- 1रू प्रति ली मिट्टी के तेल पर डिपो पर खर्चा लिया जाता है
2-200रू प्रमाण पत्र प्रमाणित कराने का खर्चा
3- 100रू वी आई पी खर्चा

आखिर ये लूट खाद्यान विभाग द्वारा कब तक चलेगी ? क्या जिले के आला अधिकारी भी इस खेल में शामिल हैं ? अगर नहीं तो ये अन्धेर क्यों चल रहा ?

रिपोर्ट- मनोजकुमार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here