मेडिकल के नाम पर छुट्टी मांगने वालों पर प्रशासन हुआ सख्त

0
136

गाजीपुर (ब्यूरो)- विधान सभा सामान्य निर्वाचन-2017 को सकुशल सम्पन्न कराने हेतुं जनपद के अधिकारियों/कर्मचारियों की तैनाती मतदान कार्मिक के रूप मे लगायी गयी है। प्रायः ऐसा देखा गया है कि मतदान कर्मी के रूप मे नियुक्त कतिपय अधिकारियों/कर्मचारियों द्वारा अपने स्वयं अथवा अपने परिवार की बीमारी के आधार पर ड्यूटी से मुक्त किये जाने का आवेदन पत्र प्रस्तुत किया जाता है। ऐसी स्थिति में निर्वाचन जैसे महत्वपूर्ण कार्य के सम्पान के दृष्टिकोण से उनके बिमारी के वास्तविकता का परिक्षण मेडिकल बोर्ड के माध्यम से कराया जायेगा।

इस सम्बन्ध मे मुख्य चिकित्सा अधीक्षक जिला चिकित्सालय गाजीपुर ने तीन सदस्यी मेडिकल बोर्ड का गठन किया है जिसमें श्री राम सिंह परियोजना निदेशक, जिला ग्राम्य विकास अभिकरण गाजीपुर अध्यक्ष, डा0 एस0पी0अग्रवाल आर्थो सर्जन सदस्य, डा0अनिल कुमार फिजीशियन सदस्य नामित किये गये है।

यह समिति प्रत्येक कार्यालय अवधि में अपरान्ह 03.00 बजे से 05.00 बजे तक जिला ग्राम्य विकास अभिकरण गाजीपुर मे उपस्थित होकर बीमारी के आधार पर निर्वाचन ड्यूटी से मुक्त करने के सम्बन्ध में प्रभारी अधिकारी/ मुख्य विकास अधिकारी गाजीपुर को प्राप्त आवेदनो का नियमानुसार मेडिकल रिपोर्ट प्रस्तुत करेगे। मेडिकल रिपोर्ट संदिग्ध प्रतीत होने पर उसकी पुनः उच्चस्तरीय जांच करायी जा सकती है।
रिपोर्ट-हरिनारायण यादव

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here