आखिर डी एम ने क्यों नहीं किया शपथ पत्र के साथ दी गयी शिकायत कोआन लाइन

0
72

जौनपुर (ब्यूरो)- जौनपुर के डी एम डा. बलकार सिंह ने खुटहन ब्लॉक के पिलकिछा गांव में की जा रही तमाम वित्तीय घोटाले व पंचायत राज एक्ट की विभिन्न घाराओं का उलंघन के मामले में की गयी शिकायत को क्यों गम्भीरता से नहीं लिया।क्या घोटाले की धनराशि का कमीशन उनके पास भी पहुंचता है यह एक प्रश्न चिन्ह है|

जौनपुर जनपद के खुटहन ब्लॉक के पिलकिछा गांव निवासी पत्रकार अरविन्द उपाध्याय ने दिनांक 28-04 -2017 को डी एम जौनपुर को नोटरी हलफनामा देकर गांव में की गयी वित्तीय अनमियतता व पंचायत राज एक्ट का उलंघन का आरोप लगाकर जांच किए जाने की मांग किया था।

डी एम जौनपुर ने इस शिकायत पत्र को बगैर आन लाइन कराए जिला पंचायत राज अधिकारी को भेज दिया।जबकि नियमानुसार किसी भी शिकायत पत्र को डी एम कार्यालय से आन लाइन करना अनिवार्य है। जिसकी रसीद भी शिकायत कर्ता को देने का शासनादेश है।

इस सम्बंध में शिकायत कर्ता ने दिनांक 04 -05 -2017 को जब डी एम से मुलाकात कर शपथ पत्र के सम्बंध में जानना चाहा तो डी एम ने डी पी आर ओ से फोन से वार्ता कर नार्मल जांच करने का हिन्ट भी दे दिया।

अब प्रश्न यह उठता है कि जौनपुर के डी एम ने शपथ पत्र के साथ दी गयी शिकायत को गम्भीरता से क्यों नहीं लिया? क्या वे भी भ्रष्टाचार में लिप्त हैं? यह एक प्रश्न चिन्ह है?

रिपोर्ट-अमित कुमार 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here