पेंशन के 10 लाख और पुरस्कार के 30 करोड़ दान करने के बाद भी ये लाइब्रेरियन 30 वर्षों से अपनी कमाई का एक-एक पैसा दान कर रहा है

0
299

Kalyanasundaram

कल्याणसुंदरम पिछले 30 वर्षों से अपने जीवन में कमाया एक – एक पैसा ज़रूरतमंदों को दान कर रहे हैं, यहाँ तक की उन्होंने अपनी पेंशन और पुरस्कार स्वरुप मिले 30 करोड़ रुपए भी दान कर दिए अपना सारा जीवन पूरी तरह से ज़रूरतमंदों के नाम कर दिया |

73 वर्षीय कल्याणसुन्दरम् ने अपनी जीविका चलाने के लिए अतिरिक्त काम किया और अपनी नियमित कमाई का एक – एक पैसा ज़रूरतमंदों को दान कर दिया, गरीब लोगों की समस्याओं को महसूस करने के लिए उन्होंने खुद स्टेशन पर, फूटपाथ पर सो कर रातें गुजारी |

उन्होंने दिन रात कड़ी से कड़ी मेहनत की ताकि दान के लिए अधिक पैसे जुटा सकें, वो अपनी सारी कमाई दान क्र सकें इसलिए उन्होंने शादी भी नहीं की | अपने लाइब्रेरियन के काम से सेवानिवृत्त होने के बाद भी उन्होंने पेंशन के तौर पर मिले 10 लाख रुपए भी दान क्र दिए |

कल्याणसुंदरम के पिता का देहांत तब हो गया जब वो मात्र 1 साल के थे उनकी माँ ने ही उनका पालन पोषण इस शिक्षा के साथ किया की ज़रूरतमंदों और लाचारों की सहायता करो उन्होंने उच्च शिक्षा प्राप्त की और आदिवासी समाज की सहायता के लिए पूरी तरह से उत्साहित हो गये |

वह अपना परास्नातक से करना चाहते थे पर उस विषय से परास्नातक करने वाले वह कॉलेज के एकलौते छात्र थे इसलिए कॉलेज प्रशासन ने उन्हें किसी दुसरे विषय के चुनाव के लिए कहा पर वह अपने इरादे के पक्के थे और उम्मीद नही छोड़ी उनके समर्पण से प्रभावित होकर कॉलेज के संस्थापक ने उनके मनचाहे विषय में उन्हें दाखिला लेने की अनुमति देदी |

इतने महान उद्देश्यों के बाद भी वे अपनी तेज़ (ऊँचे स्वर वाली0 आवाज़ से इतना परेशान थे कि खुदखुशी तक बारे में सोच लिया था पर एक लेखक से मुलाकात के समय उसकी एक बात ‘इसकी चिंता मत करो की तं कैसा बोलते बल्कि यह प्रयास करो की लोग तुम्हारे बारे में अच्छा बोलें’ ने उनकी जिंदगी पूरी तरह बदल दी |

उन्होंने ज्यादातर बच्चों के लिए काम किया और अपनी सेवा को दूसरों तक पहुंचाने के लिए ‘पालम’ नाम की एक संस्था की शुरुवात की जो दान देने वालों से इकठ्ठा करके उन चीजों को ज़रूरतमंदों तक पहुचाने का काम करती है |

अखंड भारत परिवार देश के करोंड़ों ज़रूरतमंदों की ओर से इस महान व्यक्तिव का आभार प्रकट करता है |

अखंड भारत परिवार बेहतर भारत निर्माण के लिए प्रयासरत है, आप भी इस प्रयास में फेसबुक के माध्यम से अखंड भारत के साथ जुड़ें, आप अखंड भारत को ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

ten + 19 =