दस साल बाद सामने आया धोनी के कप्तान बनने का राज

0
50

खेल: दुनिया भर में कैप्टन कूल के नाम से मशहूर महेंद्र सिंह धोनी अपनी बल्लेबाजी और विकेट कीपरिंग के लिए जाने जाते हैं| सभी जानते हैं कि मैच का रुख चाहे जैसा हो लेकिन धोनी के चेहरे पर शिकन नहीं पड़ने वाली और गेंद, गेंद तो उनके हाथों से छूट ही नहीं सकती|

आपको बता दें कि धोनी के कप्तान बनने के पीछे एक दिलचस्प कहानी है जिसे हाल ही में धोनी ने एक इंग्लिश वेब पोर्टल को दिए इंटरव्यू में बताया| धोनी ने कहा कि जब वो टीम इंडिया में नए आये थे, तो वे काफी युवा थे और टीम के सभी खिलाड़ियों के साथ उनके अच्छे सम्बन्ध थे| धोनी ने कहा कि जब कोई साथी खिलाड़ी उनसे कोई राय मंगाते थे तो वे बेबाक होकर बिना डरे, ईमानदारी से उन्हें सलाह देते थे|

धोनी ने कहा की शायद उनकी इसी बेबाकी, ईमानदारी और उनके खेल के प्रति लगाव व समझ को देखकर ही उन्हें कप्तानी सौंपी गयी| उन्होंने आगे कहा कि वैसे तो उनके क्रिकेट के खेल के इतिहास में बहुत खूबसूरत लम्हे आये लेकिन २०११ का वर्ल्ड कप जीतना उनके लिए सबसे अहम पल था|

इंटरव्यू के दौरान धोनी ने अपने जीवन के महत्वपूर्ण पलों को साझा किया और खेल को लेकर अपने विचारों को भी साझा किया| आपको बता दें कि धोनी टेस्ट क्रिकेट से संन्यास ले चुके हैं लेकिन उन्होंने कुल 90 टेस्ट मैचों में 30.09 की औसत से 4876 रन बनाए जिनमें 6 शतक और 33 अर्द्धशतक शामिल है, उनका वन-डे कैरियर भी शानदार रहा है|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here