आईआईटीएम इंडिया और डब्‍ल्‍यूसीआरपी, जेनेवा के बीच समझौता

0
283

IITMlogoईएसएसओ-आईआईटीएम, पुणे, भारत के अंतर्राष्‍ट्रीय सीएलआईवीएआर मानसून परियोजना कार्यालय की स्थापना के बारे में ईएसएसओ-आईआईटीएम इंडिया और डब्‍ल्‍यूसीआरपी, जेनेवा के बीच समझौता

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्‍यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल को बताया गया कि पृथ्‍वी विज्ञान मंत्रालय के पृथ्‍वी प्रणाली विज्ञान संगठन (ईएसएसओ) के अधीन एक स्‍वायत्‍त संगठन, भारतीय कटिबंधीय मौसमविज्ञान संस्‍थान (ईएसएसओ-आईआईटीएम) और वर्ल्‍ड क्‍लाइमेट रिसर्च प्रोग्राम (डब्‍ल्‍यूसीआरपी), जेनेवा के बीच ईएसएसओ-आईआईटीएम, पुणे में एक अंतर्राष्‍ट्रीय जलवायु बदलाव और अनुमान (सीएलआईवीएआर) मानसून परियोजना कार्यालय (आईसीएमपीओ) की स्‍थापना के के लिए 9 फरवरी, 2015 को एक समझौते पर हस्‍ताक्षर किया गया था।

डब्‍ल्‍यूसीआरपी ने तीन अंतर्राष्‍ट्रीय जलवायु परियोजना कार्यालयों (आईसीएमपीओ)- अंतर्राष्‍ट्रीय सीएलआईवीएआर ग्‍लोबल परियोजना कार्यालय, अंतर्राष्‍ट्रीय सीएलआईवीएआर मानसून परियोजना कार्यालय (आईसीएमपीओ) और अंतर्राष्‍ट्रीय सीएलआईवीएआर मॉडलिंग परियोजना कार्यालय का चयन किया है। इस समझौते के बाद आईसीएमपीओ को ईएसएसओ-आईआईटीएम में स्‍थापित किया जाएगा और इसकी अद्वितीय जिम्‍मेदारियां होंगी।

ईएसएसओ-आईआईटीएम पुणे स्थित आईसीएमपीओ (1) संबंधित डब्‍ल्‍यूसीआरपी गतिविधियों के साथ निकट सहयोग कायम रखते हुए मानसून प्रणालियों में मौसम के भीतर, मौसमी और अंतर-वार्षिक बदलाव और अनुमान लगाने और (2) मानसून और क्रायोस्‍फेयर के बीच संबंधों पर आधारित एक सीएलआईवीएआर ‘अनुसंधान अवसर’ तैयार करने के लिए उत्‍तरदायी होगा।

source – PIB

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here