हवा हवाई साबित हो रहे योगी के आदेश, अधिकारीयों पर नहीं कोई फर्क

0
56

उन्नाव(ब्यूरो)- सरकार भले ही पुलिस अधिकारियो को निर्देश दे रही हो की पीड़ितों की तहरीर लेकर उनकी रिपोर्ट दर्ज की जाए लेकिन हसनगंज पुलिस के लिए ये आदेश हवा हवाई ही साबित हो रहे है| दुखी परिजनों की रिपोर्ट दर्ज करना दूर तहरीर लेना भी मुनासिब नही समझा। बेटी की शादी के कार्ड बांटने गए पिता की दूर्घटना में घायल होने से दो दिन बाद हुई मौत, मृतक का भतीजा कोतवाली में तहरीर देने गया, जिसपर कोतवाल ने तहरीर न लेकर चलता कर दिया।

मालूम हो कि 16 अप्रैल को अजगैन थाने के सुंदरपुर निवासी छेदी पुत्र प्रशादी 50 वर्ष कोतवाली हसनगंज क्षेत्र के मोहनगंज में रिश्तेदारी बेटी की शादी का कार्ड देने आया था| कार्ड देकर शाम 6 बजे वापस जा रहा था अभी मोहनगंज से 500 मीटर दूर ही पहुच पाया था| तभी लखनऊ बांगरमऊ रोड पर सी ओ कालोनी के पास किसी अज्ञात वाहन ने पीछे से टक्कर मार दी| जिससे बाइक सवार अधेड़ बुरी तरह घायल हो गया| राहगीरों ने घायल को csc हसनगंज पहुचाकर परिजनों को सूचना दी| जिसपर चिकित्सक ने प्राथमिक उपचार कर जिला अस्पताल रेफर कर दिया| जहाँ पर घायल की स्थिति नाजुक होने के कारण उसे कानपुर के हैलट अस्पताल में भर्ती कराया गया| जहां तीसरे दिन 18 अप्रैल को उपचार के दौरान घायल ने दम तोड़ दिया, घायल की मौत के बाद मृतक का भतीजा गिरीश कुमार पुत्र शिवकुमार ने दुर्घटना में मौत होने की कोतवाली हसनगंज में तहरीर देकर दर्ज करानी चाही जिसपर थाने की पुलिस ने रिपोर्ट न दर्ज कर पीड़ित को बैरंग वापस कर दिया, पीड़ित अपने चाचा की दुर्घटना में हुई मौत की तहरीर लिए हुए घूम रहा है|

बताते चले की मृतक छेदी की 7 बेटियां है जिसमे से 5वे न. की बेटी की शादी 6 मई को होनी है| जिसके कार्ड बांटने निकला था| पुत्र न होने के कारण भतीजा ही एक सहारा है| एक तरफ बहन की शादी दूसरी तरफ चाचा की मौत और मौत की तहरीर पुलिस द्वारा न लिए जाने से सरकार के निर्देशों का पालन हसनगंज पुलिस कैसे कर रही है| ये इसी घटना से समझा जा सकता है| इस संबंध में कोतवाली प्रभारी भूपेंद्र राठी ने बताया कि मृतक का पोस्टमार्टम नही हो पाया है| जिससे fir दर्ज करने में समस्या हो रही है उच्चाधिकारियों से सलाह लेनी पड़ेगी ।

रिपोर्ट- राहुल राठौर

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY