अखिलेश यादव ने किया अपने चाचा शिवपाल पर ऐसा वार

0
276

akhilesh
इटावा :  उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव आज अपने गृह जिले इटावा में बिल्कुल अलग अंदाज में नजर आए । इशारो ही इशारो मे मुख्यमंत्री ने अपने चाचा शिवपाल सिंह यादव पर निशाना साधते हुए कहा कि जिनके भरोसे इटावा छोडा हुआ था उन्होने ना केवल साइकिल छीनने की कोशिश की बल्कि नेताजी को हम से अलग करने की भी कोशिश की ।

अपने जिले इटावा सदर के समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार कुलदीप गुप्ता के समर्थन में इटावा के ऐतिहासिक नुमाइश मैदान में आयोजित जनसभा में उन्होंने कुलदीप गुप्ता को ना केवल रिकार्ड मतों से जिताने की अपील। उन्होंने धर्म युद्ध और विरासत की लड़ाई को लेकर के जबरदस्त तंज कसते हुए कहा कि किसको क्या पता की उसको क्या हासिल हो जाए । उन्होंने अपने जन्म को लेकर कहा कि उनको क्या पता था कि उनकी पैदाइश यहां पर हो जाएगी । उन्होंने कहा नेता जी ने 25 साल समाजवादी साइकिल जोरदारी से चलाई और अब उसको आगे 25 साल चलाने की जिम्मेदारी हमारे और आपके ऊपर है ।

उन्होने उन लोगों को भी सबक सिखाने की गुजारिश की जो समाजवादी पार्टी को हराने में जुटे हुए हैं । उन्होंने साफ शब्दों में कहा कि अगर कुलदीप गुप्ता संटू को आप जिताएंगे तो हम इटावा को उत्तर प्रदेश का आदर्श जिला बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे । उन्होंने कहा कि उनको पता है कि इटावा मे समाजवादी पार्टी के समर्थको को धमकाने की की भी कोशिश की जा रही है । इस बात की उनके पास पुष्ट खबरें सामने आ रही है । उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी की बदौलत ऐसे लोग मालामाल हो गए हैं जो अपने पैसे को मतदान वाले दिन बूथ पर इस्तेमाल करके समाजवादी पार्टी के खिलाफ इस्तेमाल कर सकते हैं ऐसे लोगों को सबक सिखाना बेहद जरूरी है जब तक ऐसे लोगों को सबक नहीं सिखाया जाएगा तब तक समाजवादी आगे नहीं बढ़ सकते ।

मुख्यमंत्री यहीं नहीं रूके उन्होंने कहा कि उनको इस बात का पूरी तरह से पता है कि इटावा का मामला पूरी तरह से अलग है क्योंकि यहां पर हमें पता चला है कि नई किस्म की लड़ाई लड़ी जा रही है और यह लड़ाई किसी और से नहीं बल्कि खुद वह समाजवादी लड़ने में लगे हुए हैं जो समाजवादी बेहद मालामाल स्थिति में आ चुके हैं । उन्होंने कहा कि मैं इटावा को अपने आप से इसलिए अलग रखे हुए था क्योंकि जो लोग इटावा को देख रहे थे आज वही समाजवादी पार्टी के खिलाफ खड़े हो गए । मुख्यमंत्री तल्खी के मूड में तब आ गए जब उन्होंने यह कहने से भी कोई हिचक नहीं उठाई कि अगर हमें लिख कर के दे देंगे तो ऐसे लोगों के खिलाफ जांच कराने में भी हम पीछे नहीं हटेंगे ।

उन्होंने कहा कि हम से साइकिल छीनने की कोशिश की गई लेकिन हमारे लोगों ने विधायकों के समर्थन और सहयोग के बल से पर साइकिल हमारे पास रह गई और अब इस साइकिल को आगे 25 साल और तक ले जाने की लड़ाई हमको हर हाल में जीतनी ही होगी । उन्होंने कहा कि हमारे लिए कहा जा रहा था कि हम नया दल बनाने जा रहे है लेकिन हमे पता है कौन नया दल बनाने की कोशिश मे है। नया दल बनाने का सपना देखना बहुत आसान है लेकिन नए दल को चलाना बहुत मुश्किल है । उन्होंने कहा कि नेताजी के मंच पर जा कर के ऐसे ऐसे लोग आशीर्वाद हासिल कर रहे हैं जिनकी कोई हैसियत ना तो पहले थी और ना ही चुनाव के बाद रहेगी ।
धर्मयुद्ध और विरासत की लड़ाई का हवाला देने वाले लोगों को जवाब देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि क्या यह धर्म युद्ध की लड़ाई है इसे आप खुद आंक सकते हैं । उन्होंने कहा कि हमने इटावा में कभी भी हस्तक्षेप नहीं किया लेकिन आज हम जो कुछ भी देख रहे हैं उसके चलते यही कह सकते हैं कि जिन लोगों पर हमने इटावा की जिम्मेदारी सौंपी थी उन्होंने ना केवल हमसे साइकिल छीनने की कोशिश की बल्कि इटावा में समाजवादी पार्टी का क्या माहौल कर दिया है ऐसे लोगों को सबक सिखाना आप लोगों के जिम्मे में है और अगर ऐसे लोगों को सबक नहीं सिखाया गया तो नेता जी ने जो लड़ाई 25 साल तक लड़ी उस लड़ाई में हम लोग कहीं ना कहीं जरूर कमजोर हो जायेगी इसलिए आज जरूरत है कि नेताजी की लड़ाई हुई लड़ाई को हम आगे 25 साल तक और मजबूत करें यही आप लोगों से एकमात्र गुजारिश है ।
मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि हमें यकीन है कि आप सब मिलकर के समाजवादियों की इस लड़ाई में हमारे साथ होंगे ताकि समाजवादी पार्टी के सिंबल की तरह से एक बार फिर से उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी की सरकार बनाओ ताकि लोगों को ना केवल रोजगार मिले बल्कि उनकी उन समस्याओं का भी निराकरण हर हाल में हो सके जिनकी समस्याओं का निराकरण करने के लिए उनको अब तक भटकना पड़ता रहा है ।

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बिना नाम लिए विरोधियों पर निशाना साधते हुए कहा कि वह क्यों भूल जाते हैं कि हमने अपनी लायन सफारी में शेर भी लाकर के छोड़े हुए हैं जो किसी भी समय विरोधियों के मुकाबले के लिए तैयार हो सकते हैं ।

मुख्यमंत्री ने गंभीर तंज कसते हुए कहा कि वह लोग यह कतई ना भूले कि हमको खेल नहीं आता है हमको हर खेल आता है और हम हर खेल में माहिर है क्योंकि हम फुटबाल खेलना जानते हैं और फुटबाल खेलने वाले अपने विरोधियों को किस तरीके से सबक सिखाते हैं यह किसी को बताने की जरूरत नहीं है ।

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव यह भी कहने से कतई नहीं चुके कि उन्होंने अपने गृह जिले इटावा को जिन लोगों के भरोसे छोड़ा था उन्होंने हमारा और नेताजी का ना केवल भरोसा तोड़ा बल्कि हम लोगों को भी अलग करने की कोशिश की है लेकिन समाजवादियों ने उनको ऐसा सबक सिखाया है कि वो आज कही के नही रहे है ।
उन्होंने कहा कि आज यही लोग नेताजी के मंच पर चढ़कर जबरदस्ती उनसे अपनी विजय का ना केवल आशीर्वाद ले रहे हैं बल्कि दूसरे दलों के उम्मीदवारों को जिताने का भी मंसूबा पाले हुए हैं लेकिन हमें अपने समाजवादी साथियों पर पूरा भरोसा है कि समाजवादी पार्टी की इस लड़ाई को किसी भी शक्लो सूरत में कमजोर नहीं होने देंगे ।

उन्होंने उन समाजवादियों को भी भरोसा दिलाया कि जो अभी तक उपेक्षित रहे हैं सरकार बनने पर उन समाजवादियों को हर हाल में सम्मान दिया जाएगा । मुख्यमंत्री ने कहा कि जब सम्मान की बारी आई तो ऐसे लोग सम्मान पा गए जो वाकई में सम्मान के हकदार नहीं थे लेकिन वक्त वक्त की बात है । अगर एक बार फिर से उत्तर प्रदेश में समाजवादी सरकार काबिज होती है तो निश्चित है अब तक उपेक्षित रहे उन समाजवादियों का सम्मान हर हाल में बरकरार रखा जाएगा जो उपेक्षा का शिकार अब तक किसी न किसी कारण से होते आए हैं ।

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर के तंज कसा कि आज वह इस हद तक उतर आए कि अब वो थाने स्तर के भी बयान देने लगे । उन्होंने कहा कि हम बहुजन समाज पार्टी से लडाई लडे या फिर देश की सत्ता के संचालन करने वाले प्रधानमंत्री से लड़े या फिर उन कथित समाजवादियों से लड़ेएजो समाजवादी पार्टी को हराने में लगे हुए हैं ।

रिपोर्ट – सुशील कुमार

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY