चुनाव आयोग ने जिन्दा लोगों को मृतक घोषित कर उनको मत देने से किया वंचित

0
226

प्रतापगढ़(ब्यूरो)– आजादी के बाद प्रतापगढ़ जनपद में विधानसभा 2017 के विधानसभा चुनाव विश्वनाथ गंज की मतदाता सूची में अजब गजब का खेल जिला प्रशासन के द्वारा उजागर हुआ है| मामला मानधाता विकास खंड के लोगों के द्वारा अपनी जुबानी वीडियो बयान के माध्यम में दर्शाया गया है| जिन लोगों ने अपना दुख दर्द बयां किया है| जरा आप लोग भी सुने अंबिका शर्मा, राम अभिलाख शर्मा निवासी ग्राम अमैया मऊ कोतवाली मानधाता प्रतापगढ़ यह लोग जिंदा है| सुबह अपना मत देने के लिए मतदान केंद्र पर लाइन लगाएं और अपनी पारी का इंतजार करते रहे कि अब मेरा नंबर आएगा परंतु मामला इसके विपरीत नजर आया| यह लोग गांव में ही निवास करते हैं और जिंदा हैं परंतु जिला प्रशासन द्वारा तैयार की गई मतदाता सूची में इनको विलोपित कर दिया गया है|

इतना ही नहीं इन लोगों को मतदान केंद्र पर लगे सुरक्षाकर्मी के द्वारा अपमानित भी किया गया परंतु सच तो यह है कि अब यह लोग अपनी व्यथा क्षेत्र के संभ्रांत लोगों के अलावा स्थानीय पत्रकारों से भी अपनी पीड़ा बताने में बाज नहीं आ रहे हैं| तो दूसरी तरफ योग ग्राम प्रधानबैश पुर मोहम्मद कासिम उर्फ अरबी ने बताया कि आजादी के बाद से यह मेरे साथ पहला वाकिया है| मैं हर मतदान में चढ़कर मतदान करता था परंतु विधानसभा 2017के चुनाव में मैं तो जिंदा हूं| सुबह घर से उठकर मतदान केंद्र पर पहुंचा और लंबी लाइन में अपने मत देने का इंतजार करता रहा परंतु वहां पर तैनात पीठासीन अधिकारी सुरक्षाकर्मी ने कहा कि चुपचाप मतदान केंद्र के बाहर निकल जाओ वरना आपको इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा| पूर्व प्रधान ने अपनी मर्यादा को देखते हुए फौरन मतदान केंद्र से बाहर निकल कर अपनी व्यथा क्षेत्रीय लेखपाल व अन्य कर्मचारियों को बताया तथा इसके साथ उन्होंने एक वीडियो बयान में बताया कि इतना ही नहीं मेरी पड़ोस के परिवार का नाम मोहम्मद शाहिद का परिवार मैं 5 वोट है| ग्राम प्रधान के चुनाव में इन लोगों ने अपने मतदान का प्रयोग किया था परंतु विधानसभा के चुनाव में इनके परिवार के मतदाताओं का नाम पूरी तरह से साफ कर दिया गया है|

शाहिद ने एक वीडियो बयान में बताया कि मुझे इतना दुख हुआ है कि यह मेरे परिवार के साथ पहली बार हुआ है| मुझे अपार कष्ट है कि हम लोग अपने मत का प्रयोग नहीं कर पाए मुझे जिला प्रशासन से बहुत ही दुख हुआ है| मैं अपनी इस पीड़ा को सहन नहीं कर पा रहा हूं\ मेरे पूरे परिवार का नाम मतदाता सूची से गायब होना बहुत ही निंदनीय विषय है| इसके लिए मैं लिखा-पढ़ी करूंगा और चुनाव आयोग से शिकायत करूंगा मेरे परिवार में मशरातुन निश फरहत जहा समीना बानो फहमीदा बानो लाखा पुर गाव मे उदय राज देव राज इसके अलावा विकासखंड मानधाता के अन्य गांवों में कितने मतदाताओं का नाम मतदाता सूची से हटा दिया गया है| उसका कोई अभी अस्पष्ट आंकड़ा नहीं है| यदि यही हालात रहेंगे तो मतदाताओं के कोपभाजन का शिकार जिला प्रशासन के साथ साथ संबंधित बीएलओ के अलावा कयों को कोपभाजन बनना पड़ सकता है| इस समय क्षेत्र के संभ्रांत लोगों से बात की गई तो लोगों ने बताया कि इस 2017 के विधानसभा चुनाव की मतदाता सूची में जो जिंदा है| उनको मुर्दा दिखाया गया है तथा विलोपित कर दिया गया है और जो मुर्दा हो चुके हैं उनको मतदाता सूची में स्थान दिया गया है|

क्षेत्र के कई संभ्रांत लोगों ने इस पर नाराजगी जताते हुए जिला प्रशासन से शिकायत करने का मन बना रहे हैं इस मौके पर अंबिका शर्मा राम अभिलाख शर्मा पूर्व प्रधान अरबी बसंत शुक्ला जगन्नाथ पटेल जगदेव पटेल लाल पटेल लाल पटेल सत्यप्रकाश पाल गंगाप्रसाद दुबे दिनेश पटेल रामलाल पटेल मुन्ना पाल आदि लोगों ने मतदाता सूची में हुए फेरबदल से नाराजगी जाहिर किया है और बताया है कि जो लोग गांव में निवास कर रहे हैं जिनकी उम्र पूर्ण हो चुकी है उनका नाम तो मतदाता सूची में होना चाहिए जो लोग दुनिया को अलविदा कर चुके हैं अर्थात इस दुनिया में नहीं है उनका नाम तो मतदाता सूची में ना हो तो यह न्याय हित है| यदि इंसान गांव में निवास कर रहा है मतदाता सूची में नाम नहीं है अवध जिंदा है तो उसको मृतक दिखाया जाना विलोपित कर देना यह बहुत ही चिंता का विषय है|

रिपोर्ट- अवनीश कुमार मिश्रा
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here