दो दिवसीय हड़ताल पर हैं सभी कर्मचारी, कामकाज ठप

0
101

मधुबनी(ब्यूरो)- 13 सूत्री मांगों को लेकर जिले के कर्मी दो दिवसीय हड़ताल पर चले गये हैं| 29 और 30 जून को बिहार राज्य अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ और बिहार राज्य अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ गोपगुट के संयुक्त तत्वावधान में शुरू हड़ताल के कारण समाहरणालय, अस्पताल, शिक्षा विभाग, पीएचईडी, आपूर्ति विभाग सहित सभी विभाग में कर्मी काम पर नहीं आए|

कर्मचारी संघ ने केंद्रीय वेतनमान सहित तमाम सुविधाओं की मांग की है| पेंशन योजना, अनुकंपा नियम को लागू किये जाने, नियोजित कर्मियों को सभी सहूलियत उपलब्ध कराने, नियोजन में ठेका के सिस्टम को खत्म किए जाने की मांग पर हड़तालीकर्मी अड़े हुए हैं| हड़ताल पर रहने वाले कर्मियों ने बताया कि यह तो महज सांकेतिक हड़ताल है| मांगें पूरी नहीं होने पर अनिश्चितकालीन हड़ताल शुरू किया जायेगा| मधुबनी सदर अस्पताल में हड़ताल पर गये कर्मियों ने एक सभा का भी आयोजन किया| इस दौरान वक्ताओं ने कहा कि कुछ संवर्ग में न्यायालय के आदेश के बावजूद ‘समान कार्य के लिए समान वेतन’ नहीं दिये जाने की आलोचना की है|

कर्मियों के साथ लगातार भेदभाव किया जाता रहा है| कर्मियों को बेवजह लगातार प्रताड़ित करने का काम किया जाता रहा है| बिना मानदेय के कार्य लेने को अपराध बताते हुए वक्ताओं ने कहा कि ऐसे कर्मियों के भी कई माह के वेतन लंबित रखे जा रहे हैं| इससे पता चलता है कि सरकार श्रमिक के प्रति किस हद तक असंवेदनशील है| मौके पर विजय कुमार यादव, मो. नदीम, विपिन भारद्वाज, संगीता कुमारी, संगीत कुमार, वकील पूर्वे, हरेन्द्र कुमार, राज कुमार सिंह एवं अन्य उपस्थित थे| वक्ताओं ने कहा जब तक मांगों को लेकर सरकार गंभीरता से निर्णय नहीं लेती है, कर्मियों के द्वारा आंदोलन जारी रहेगा| मिली जानकारी के अनुसार बेनीपट्टी, राजनगर, बिस्फी, हरलाखी, घोघरडीहा सभी प्रखंड के कर्मी हड़ताल पर चले गए ।

रिपोर्ट- आशुतोष कुमार सिंह 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here