चुनावी नतीज़े में सपा के गढ़ पर रहेंगी सभी की निगाहें

0
107

मैनपुरी(ब्यूरो)– पच्छिमी उत्तर प्रदेश के मैनपुरी जनपद में विधानसभा चुनाव में चारों विधानसभा सीटों पर पूरे प्रदेश की खास नजरें रहती है। मैनपुरी को समाजवादी पार्टी का गढ़ माना जाता है। हर चुनाव में सपा ने यहां से सफलता हासिल की है। वर्ष 2017 में क्या होगा, इसका फैशला कल होना है। पर धुंधली से तस्वीर उभर कर जो आ रही वो यह है कि क्या समाजवादी पार्टी अपने ही गढ़ मैनपुरी में किला फतेह कर पायगी ?

मैनपुरी सदर सीट
मतगणना कल यानी 11 मार्च को है। उसी दिन पता चलेगा कि कौन जीता और कौन हारा। मैनपुरी सदर सीट से सपा के युवा नेता व् अखिलेश यादव के वेहद कारीविओ में से राजकुमार उर्फ़ राजू यादव ने सिटिंग विधायक ने दुबारा चुनाव लड़ा है। तो उन्हें टक्कर देने के लिए भाजपा से दो बार विधायक रहे अशोक चौहान मैदान में है। बसपा से महाराज सिंह शाक्य थे। इस बार गठबंधन के चलते कांग्रेस ने मैनपुरी जनपद में अपना कोई प्रत्याशी नहीं उतारा है। अब जनता की राय की बात करें तो सदर सीट से सपा और बसपा की कड़ी टक्कर है।और दोनों ही खेमे के लोग अपनी जीत का दावा कर रहे है। बसपा दूसरे स्थान पर है।

भोगांव विधानसभा सीट
वर्तमान में सपा से तीन बार विधायक रहे अलोक शाक्य मैदान में हैं। बसपा से सुरेंद्र यादव मैदान में हैं। भाजपा से रामनरेश अग्निहोत्री मैदान में हैं।जनता के रुझानों से जो बात निकल कर आरही पहले पायदान पर भाजपा दूसरे पायदान सपा और तीसरे पायदान पर बसपा है।

किशनी विधानसभा सीट
यंहां से सपा के वर्तमान विधायक ब्रजेश कठेरिया मैदान में है। भाजपा से इंजीनियर सुनील जाटव मैदान, बसपा से कमलेश कुमारी मैदान में हैं। आम जनता की राय की बात करें तो पहले पायदान पर बसपा दूसरे पर सपा और तीसरे पर भाजपा है।

करहल विधानसभा सीट
इस बार सपा ने वर्तमान विधायक सोबरन सिंह यादव को मैदान में उतारा है। यहां से भाजपा से रमा शाक्य और बसपा से दलवीर पाल हैं। जनता की बात करें तो यहां पर पहले पायदान पर सपा है। दूसरे भाजपा और तीसरे पायदान पर बसपा है।

2012 के विधान चुनाव में मैनपुरी सदर सीट पर सपा ने वर्तमान प्रत्याशी राजकुमार उर्फ़ राजू यादव को ही टिकट दिया था। राजकुमार उर्फ़ राजू यादव ने अपने कैरियर का ये पहला चुनाव लड़ा था। 54990 वोट हासिल कर जीत दर्ज की थी। दूसरे स्थान पर बसपा की रमा शाक्य रही थीं। भाजपा ने 2012 में सदर सीट से पूर्व विधायक रहे कुरावली निवासी नरेंद्र सिंह राठौर को टिकट दिया था। नरेंद्र राठौर ने 20040 मत हासिल कर चौथा स्थान पाया था। कांग्रेस ने 2012 में पूर्व सपा नेता कैसी यादव को टिकट दिया था। उन्होंने 24280 मत हासिल कर तीसरा स्थान प्राप्त किया था।

किशनी विधानसभा में सपा के वर्तमान प्रत्याशी ब्रजेश कठेरिया ने जीत दर्ज कराते हुए 76879 वोट हासिल किये थे। बसपा ने सपा से पूर्व किशनी विधायक रही संध्या कठेरिया को टिकट दिया था। वे 41839 मत प्राप्त कर दूसरे स्थान पर रही थीं। भाजपा प्रत्यासी ई. सुनील जाटव ने 21079 मत हासिल किये थे। कांग्रेस ने पूर्व विधायक राम सिंह को टिकट दिया था और वे 2581 वोट लाकर चौथे स्थान पर रहे।

2012 में प्रदेश सरकार का घर कही जाने वाली करहल विधान सभा से वर्तमान में भी सपा के प्रत्याशी सोबरन सिंह यादव को टिकट दिया था उन्होंने 92,536 वोट हासिल कर जीत दर्ज कराई थी। बसपा ने पूर्व मंत्री रहे ठाकुर जयवीर सिंह को टिकट दिया था। उन्होंने 61593 मत हासिल कर दूसरा स्थान बनाया था। भाजपा ने अनिल यादव को टिकट दिया था। उन्होंने 13114 वोट हासिल कर तीसरा स्थान पाया था। कांग्रेस ने सपा से घिरोर विधान सभा से विधायक रही और मुलायम सिंह की ख़ास रिश्तेदार उर्मिला यादव को टिकट दिया। उन्हें 9840 वोट मिले थे।

2012 में भोगांव विधानसभा
भोगांव विधानसभा की बात की जाये तो सपा ने यहां से तीन बार लगातार विधायक रहे और वर्तमान में भी सपा के प्रत्याशी अलोक शाक्य को ही टिकट दिया था। अलोक शाक्य ने 70298 वोट हासिल कर एक जीत दर्ज कराई थी। बसपा ने राहुल राठौर को टिकट दिया था। उन्होंने 39622 वोट हासिल कर दूसरा स्थान पाया था। भाजपा ने वर्तमान में उन्नाव से सांसद और भाजपा के फायर ब्रांड नेता साक्षी महाराज को टिकट दिया था। साक्षी महाराज को 19773 वोट मिले थे। कांग्रेस ने रश्मि राजपूत को टिकट दिया था। 26039 वोट लाकर वे चौथे स्थान पर रहीं।

2017 के चुनाव में मैनपुरी में यह स्थिति बन रही
करहल विधानसभा सीट
1. सपा
2.भाजपा
3.बसपा
किशनी विधानसभा सीट
1.बसपा
2.सपा
3. बसपा
मैनपुरी सदर विधानसभा सीट
भजपा/ सपा
2 बसपा
भोगांव विधानसभा सीट
1 भाजपा
2.सपा
3.बसपा

रिपोर्ट- प्रमोद झा

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY