किसानों के हित के सारे सरकारी दावे केवल हवा-हवाई

प्रतापगढ़(ब्यूरो)- जनपद प्रतापगढ़ के विकासखंड मानधाता के कृषि गोदाम में व्याप्त भ्रष्टाचार का मामला प्रकाश में आया है तो विकास खंड मानधाता के कई किसानों ने आरोप लगाया है कि इस कार्यालय में 8 लोगो की तैनाती की गई है इसमे से 2 लोगो का तबादला हो गया है| बाकी बचे लोगो का हाल भगवान भरोसे है परंतु यहां पर तैनात अधिकारी कर्मचारी ग्रामीण किसानों से जो व्यवहार करते हैं वह किसी से छुपा नहीं है| जिला स्तर के अधिकारियों की आंख में धूल झोंककर अपना काम कर रहे हैं| कुछ अधिकारी-कर्मचारी तो वैसे हैं जो इलाहाबाद जनपद में रहकर अपनी तैयारी कर रहे हैं और सरकार को धोखा देकर हर महीने की तनख्वाह भी उठा रहे हैं| इस कार्यालय में एक कंप्यूटर ऑपरेटर यादव जाति का है, नाम पूछने पर बताने से कतराता है उसका यह भ्रष्टाचार है कि किसान बही खतौनी आधार लिंक करने के नाम पर किसानों की जेब पर दिनदहाड़े डाका डाल रहा है| प्रति किसान 50 रूपया खुल्लम-खुल्ला लिया जाता है, तब ऑनलाइन फीडिंग की जाती है| इतना ही नहीं किसी किसान को यदि किसी भी उर्वरक अथवा बीज की जरूरत उसकी मात्रा के अनुसार मांगने पर संबंधित लोगों के द्वारा किसानों को खरी खोटी सुनना पडता है|

यह है भाजपा सरकार का दावा जो किसानों की हितैषी है इस बाबत में जब जिला कृषि अधिकारी अश्वनी सिंह के दूरभाष मोबाईल पर संपर्क करने का प्रयास किया गया तो मोबाइल दूरभाष से संपर्क नहीं हो पाया जिसका 9235629454 यह है| जनपद प्रतापगढ़ के विकासखंड मानधाता के किसानों की हकीकत यहां से किसानों के लिए सस्ते मूल्य पर जिंक जैविक खाद तथा अच्छे बीज किसानों को देने की व्यवस्था सरकार द्वारा चलाई जा रही है परंतु इस ऑफिस के खुलने का कोई समय निर्धारित नहीं है| इसका मामला यह है कि यहां पर किसी एक व्यक्ति के द्वारा दिन में ग्यारह बारह के बीच किसी एक व्यक्ति के द्वारा ऑफिस खोला जाता है और दो-तीन बजे तक कार्यालय अथवा कृषि बीज भंडार मानधाता को बंद कर दिया जाता है| मानधाता विकासखंड के कुछ प्रमुख गांव के किसानो मे राम नेवाज नौवापुर श्री नाथ डाढी शिव राम नौवा पुर राम निहोर नौवापुर राम बहादुर लाखा पुर अरबी लाल कुलिही पुर ये किसान 9 बजे से लेकर 12 बजे तक इतजार किये परंतु इस कार्यालय को खोलने के लिए कोई भी अधिकारी कर्मचारी नहीं आया तो किसान उठ कर अपने घर चले गए बाद में वही किसान लोग जब राजकीय कृषि बीज भंडार मानधाता पहुंचे तो कार्यालय खुला था |

मानधाता क्षेत्र के किसानों ने आरोप लगाया है कि इस कार्यालय के अधिकारी कर्मचारी बिल्कुल तानाशाही पर उतारू है| इनके ऊपर लगता है कि प्रतापगढ़ जनपद में कोई अधिकारी ही नहीं है यह है भाजपा सरकार का दावा किसान खाद बीज के लिए दर-दर की ठोकर खा रहा है| इतना ही नहीं शासन द्वारा जनपद स्तर पर कृषि यंत्र पर व्यापक पैमाने पर छूट है यही कारण है कि राजकीय कृषि बीज भंडार मानधाता में अभी भी कुछ बीज डंप पड़ा है परंतु यह छूट प्रतापगढ़ जनपद के रसूखदार लोगों की चौखट तक सीमित है, क्या कृषि यंत्र ऐसे- बने हैं जिस पर सरकार किसानों के लिए सीधे तौर पर बोरिंग ट्रैक्टर खरीद रोटावेटर बुवाई की मशीन या अन्य उपकरण सरकार द्वारा व्यापक पैमाने पर किसानों के हित को ध्यान में रखते हुए सबसिडी प्रदान कर रही है लेकिन प्रतापगढ़ जनपद में होता वही है जो प्रतापगढ़ जनपद के अधिकारी चाहते हैं नेता चाहते हैं| आज तक जनपद में कृषि यंत्र में जैसे ट्रैक्टर यह किसानों के लिये सरकार के माध्यम से बहुत सस्ते दाम पर मिलता है परंतु जनपद प्रतापगढ़ के किस किसान को मिला है|

जनपद में कितनी सब्सिडी आई है यह भी शायद किसी को मालूम हो सिवा जिला कृषि अधिकारी प्रतापगढ़ को छोड़कर या तो सत्तापक्ष के नेताओं को मालूम होगा| यह छूट किस किसान को मिली है यह जानकारी सब को नही है जनपद मे कृषि मेला संपन्न कराया जा चुका है, इसके आगे किसानों के हित में जनपद प्रतापगढ़ में और क्या होता है यह तो आने वाला वक्त ही बताएगा जबकि उत्तर प्रदेश सरकार में जनपद प्रतापगढ़ के निवासीजीते तीन बिधायक है और वे मंत्री बने है उत्तर प्रदेश सरकार में विराजमान हैं उत्तर प्रदेश की धरती पर सरकार चाहे जिस पार्टी की बनती है परंतु जनपद प्रतापगढ़ की धरती से जीता विधायक उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री अवश्य बनता है यह जनपद प्रतापगढ़ का इतिहास रहा है परंतु जनपद प्रतापगढ़ के धरातल पर जाकर विकास को टटोला जाएगा तो शायद इसका परिणाम दूसरा ही होगा|

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY