अमेरिका-पाक डील से नाखुश भारत ने अमेरिकी राजदूत को किया तलब |

0
278

Indian Foreign Minister Sushma Swaraj (R) attends a news conference after the 13th Russia-India-China Foreign Ministers' Meeting, at Diaoyutai State Guesthouse in Beijing, February 2, 2015. REUTERS/Wu Hong/Pool/Files

भारत ने अमेरिका-पाकिस्तान के बीच हो रही आठ एफ 16 लड़ाकू विमान बेचने की डील पर निराशा व्यक्त करते हुए कहा कि भारत इस बात से असहमत है कि पाकिस्तान के साथ इस प्रकार हथियारों के हस्तांतरण से आतंकवाद से निपटने में मदद मिलेगी। भारत के विदेश सचिव एस जयशंकर इस निर्णय पर भारत की नाखुशी जाहिर करने के लिए अमेरिकी राजदूत रिचर्ड को तलब किया है।

विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘हम पाकिस्तान को एफ 16 विमानों की बिक्री को अधिसूचित करने के ओबामा प्रशासन के निर्णय से निराश है। हम इस तर्क से असहमत है कि इस प्रकार हथियारों के हस्तांतरण से आतंकवाद से निपटने में मदद मिलती है।’

मंत्रालय ने कहा, पाकिस्तान को लड़ाकू विमानों की प्रस्तावित बिक्री रोकने की अमेरिकी सांसदों की मांग के बावजूद ओबामा प्रशासन ने पाकिस्तान को आठ एफ-16 लड़ाकू विमान बेचने के अपने फैसले के बारे में अमेरिकी कांग्रेस को अधिसूचित किया है। पेंटागन की शाखा रक्षा सुरक्षा सहयोग एजेंसी ने एक बयान में कहा कि अनुमानित कीमत 69.94 करोड़ डॉलर है। बयान में कहा गया कि यह प्रस्तावित बिक्री दक्षिण एशिया में एक रणनीतिक सहयोगी की सुरक्षा में सुधार में मदद करके अमेरिकी विदेश नीति और राष्ट्रीय सुरक्षा के लक्ष्यों में अपना योगदान देती है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY