भारत पर आरोप लगा रहे पाक को अमेरिका का जवाब, कहा मानवता का दुश्मन आतंक का गढ़ है पाक |

0
1179

obama

कश्मीर में आतंकी बुरहान की मौत पर अलाप रहे पाकिस्तान ने इस मुद्दे को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् पांच स्थायी सदस्यों के सामने उठाते हुए मुद्दे पर संज्ञान लेने कि बात कही है, पर स्तःयी सदस्य देशीं में से एक अमेरिका ने पकिस्तान कि मंशा और पाकिस्तान कि आतंक के खिलाफ नीति पर ही सवाल उठा दिए हैं | पाकिस्तान आतंक का दोस्त या दुश्मन मुद्दे को लेकर अमेरिकी संसद में हुई बहस में अमेरिकी कांग्रेस के लोगों ने एक मत होकर पाकिस्तान को आतंकियों कि पनाहगाह और आतंक का साथी बताया है और कहा आजतक पाकिस्तान आतंक के खिलाफ लड़ाई के मामले में विश्व को भ्रमित करता आ रहा है |

अमेरिकी सांसदों और विशेषज्ञों ने पाकिस्तान को आतंक प्रायोजित करने वाले देशों की सूची में रखते हुए पाकिस्तान को दी जाने वाली मदद को रोकने कि अपील की है. सांसदों ने कहा पाकिस्तान आतंकवादियों का समर्थन करने वाला देश है और चीजों को गलत ढंग से पेश करके अमेरिका को मूर्ख बनाता रहा है |

अमेरिकी संसद में एशिया और प्रशांत उपसमिति के अध्यक्ष मत साल्स मन ने कहा पाकिस्तान को धन देना माफिया को धन देने जैसा है, वे हमें मूर्ख बना रहे हैं |

सांसदों ने कहा “यदि मै गैर राजनीतिक शब्दों का इस्तेमाल करूँ तो हम बहुत भोले रहे हैं, पर हमारे राज्नेत्राओं को अभी तक यह बात समझ में नहीं आई है |

उन्होंने कहा पाकिस्तान बड़ी ही चालाकी से चीज़ों को तोड़ – मरोड़कर पेश करता है और हमारा इस्तेमाल करता है, हमारे द्वारा आतंक से लड़ाई के लिए दी जा रही मदद को पाकिस्तान गलत तरीके से इस्तेमाल कर रहा है |

उन्होंने कहा पाक्सितान और साउदी अरब ने मिलकर तलबान और हक्कानी नेटवर्क बनाया जो कि आतंकी संगठन हैं, और बलूचिस्तान के लोगों को मार रहे हैं, पाकिस्तान को किसीभी प्रकार कि मदद देना आतंक को बढ़ावा देने जैसा है |
पाकिस्तान एक भ्रष्ट, दमनकारी और आतंक परस्त शासन है | आतंकी संगठन आईएसआईएस भी पाकिस्तान सेना कि ही एक शाखा है जो पाकिस्तानी सेना कि इच्छाओं को अंजाम दे रही है |

उन्होंने कहा अमेरिका को पाकिस्तान जैसे आतंक परस्त देश कि मदद बिलकुल नहीं करने चाहिए और सबसे पहले पाकिस्तान को दी जाने वाली मदद पर पूरी तरह रोक लगा दी जानी चाहिए |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here