पाकिस्तान को सैन्य मदद पर अमेरिकी सीनेटरों ने जताया विरोध |

0
264

americaपाकिस्तान को 70 करोड़ डॉलर के 8 एफ-16 विमान खरीदने में सैन्य मदद के लिए करदाताओं का धन इस्तेमाल करने का अमेरिकी सीनेटरों ने कड़ा विरोध किया है और आतंकवाद से लड़ने की पाकिस्तान की प्रतिबद्धता पर भी सवाल उठाए हैं |
सूत्रों के अनुसार लगभग 2 दर्जन से भी अधिक सीनेटर कांग्रेस में मौजूद पाकिस्तान-विरोधी भावनाओं को उजागर करते हैं, सीनेटरों ने पाकिस्तान को एफ-16 न देने के प्रस्ताव को तो राजनितिक कारणों से पटल रखने से रोकने के पक्ष में मतदान किया, पर कोई भी पाकिस्तान को समर्थन देने के पक्ष में नहीं था |
अपने राजनितिक मतभेदों से ऊपर उठते हुए सबने एक साथ मिलकर पाक के दोहरे रवैये पर आपत्ति जताई और कहा कि वह ओबामा सरकार को करदाताओं के पैसे का इस्तेमाल पकिस्तान को एफ-16 की बिक्री के लिए नहीं करने देंगे |
विदेश संबंधों की समिति के अध्यक्ष और सीनेटर बॉब कोरकर ने कहा कि वह पाकिस्तान को लडाकू विमान देने के लिए अमेरिकी सब्सिडी पर से ‘पकड’ नहीं छोडने वाले. दूसरे देशों को की जाने वाली सैन्य बिक्री इसी समिति के अधिकार क्षेत्र में आती है |

आतंकवाद पर पाकिस्तान की नीयत साफ़ नहीं : अमेरिका

कोरकर ने सीनेट में कहा, ‘‘इस समय इस बिक्री को मदद पहुंचाने के लिए किसी भी करदाता के डॉलरों का इस्तेमाल करने का मेरा विरोध जारी है क्योंकि पाकिस्तान आतंकी समूहों को पनाहगाह उपलब्ध करवा रहा है और अमेरिकी सैनिकों पर हमला बोलने वाले एवं अफगानिस्तान के भविष्य को खतरे में डालने वाले हक्कानी नेटवर्क को निशाना बनाने से इंकार करता है |”

कोरकर ने कहा, ‘‘करदाता सब्सिडी पर रोक लगाकर पाकिस्तान को एक जरुरी संदेश दिया जा सकता है कि उसे अपने रवैया बदलने की जरुरत है. लेकिन अमेरिकी विमान की खरीद से रोकने पर अच्छे से ज्यादा बुरा हो जाएगा क्योंकि तब रुस और चीन जैसे देशों के लिए पाकिस्तान को बिक्री करने का रास्ता खुल जाएगा और आतंकवाद-रोधी कदमों में वृहद सहयोग भी अवरुद्ध हो जाएगा |”

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेजऔर आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here