अमेठी के ड्रग कारोबारियो का पुलिस से गहरा नाता, स्वाट प्रभारी निलंबित

0
131

अमेठी (ब्यूरो)- जिले में बड़े संगठित अपराध तो नही थे पर सफ़ेद पोश और सत्ता के करीबियों ने बड़े पैमाने पर पूरे जिले में नशे का कारोबार फैला रखा था। एस पी ने जब नकेल कसना शुरू किया तो खलबली मच गई।यहाँ तक की अमेठी कस्बे में माहौल खराब करने की हर संभव कोशिश हुई। प्राथमिकी भी दर्ज हुई पर अमेठी का दबंग नाम जद आरोपी होने के बावजूद अल्तमश अब भी पुलिस के गिरफ्त से बाहर है। वही लंबे समय से जमे एसओजी /स्वाट प्रभारी सुनील यादव को एसपी अनीस अहमद अंसारी ने निलंबित कर दिया है।

सूत्रों के मुताबिक जिन ड्रग कारोबारियो को पुलिस ने  गिरफ्तार कर जेल भेजा है उनमें से अधिकांश ने पुलिस अधिकारियों को बताया है कि वो सब स्वाट प्रभारी को महीना देते थे। महीने में क्या देते थे इस राज को किसी ने नही खोला। नाम न छापने के शर्त पर कई ने बताया कि इतनी सख्ती के बावजूद भी कारोबार ही न केवल जारी है बल्कि महीना भी जा रहा है।

निलंबित स्वाट प्रभारी की प्रारंभिक जांच भी निलंबन के साथ शुरू हो गई है। जिले के कई थानेदार भी पुलिस के बड़े अधिकारियो के राडार पर है। वही फरार अल्तमश के बारे में भी कई कहानियां सामने आ रही है। अमेठी में लगभग 6 साल से जमे एक दारोगा ने तो उसे पुलिस रिकॉर्ड में मसीहा बना दिया था। जब तक गायत्री मंत्री रहे वह दारोगा अमेठी कोतवाली में ही बतौर प्रभारी तैनात रहा। चुनाव के पहले उसे मलाईदार समझे जाने वाले थाने में तैनात किया गया। लेकिन चुनाव के दौरान आयोग ने उसे हटा दिया था।

एस पी का दावा है कि अल्तमश जल्द ही पुलिस के गिरफ्त में होगा। वैसे पुलिस व् अपराधियो का अब तक रहा गठजोड़ खुद अधिकारियो के लिए चुनौती बन गया है।

रिर्पोट- दीपक मिश्रा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here