अमित जोगी ने कांग्रेस से पूछे पांच सवाल, ‘बस्तर पदयात्रा’ को नौटंकी करार दिया

0
236

रायपुर/छत्तीसगढ़ (ब्यूरो)- मरवाही विधायक अमित जोगी ने 10 फ़रवरी से शुरू हो रही कांग्रेस पार्टी की बस्तर पदयात्रा को नौटंकी करार दिया है। अमित ने कहा कि बस्तरवासी जहाँ भाजपा के प्रशासनिक आतंकवाद से त्रस्त हैं वहीँ कांग्रेस पार्टी के ड्रामेबाजी को भी बखूबी पहचानते हैं।

जोगी ने पांच सवाल पूछते हुए कहा कि अगर इंडीयन नेशनल कांग्रेस पार्टी वास्तव में बस्तर की हितैषी है तो: –

1) पोलावाराम बाँध का विरोध कर ४०,००० परिवारों को उजड़ने से क्यों नहीं बचाते ?

2) एनएमडीसी का मुख्यालय हैदराबाद से जगदलपुर लाने की माँग क्यों नहीं करते ?

3) बस्तर में बस्तर के रहने वालों को नौकरी दिलाने के लिए मेरे द्वारा लाए गए विधेयक पर चर्चा करवाकर ठोस क़ानून क्यों नहीं पारित करते ?

4) इंद्रावती-जोरानाला पर कंट्रोल स्त्रक्चर का विरोध कर रही कांग्रेस का जवाब क्यों नहीं देते ?

5) बोधघाट परियोजना के साथ साथ ८४९ लम्बित सिंचाई परियोजनाओं को फिर से चालू करने की माँग क्यों नहीं उठाते ?

अमित जोगी ने कहा कि पोलावरम पर दोनों राष्ट्रीय दलों का एक होना यह प्रमाणित करता है कि उन्हें बस्तरवासियों के हितों से ज्यादा पोलावरम बाँध बनाने वाले ठेकेदारों के हितों की चिंता है। जोरानाला स्ट्रक्चर तोड़ने की घटना का उदहारण देते हुए जोगी ने कहा कि छत्तीसगढ़ के कांग्रेस पदाधिकारियों द्वारा ओडिशा के कांग्रेस विधायकों का विरोध नहीं करना कांग्रेस की दोगली नीति को उजागर करता है। जब ओडिशा के कांग्रेस विधायक बस्तर की अस्मिता को ठेस पहुँचा रहे थे तो उस समय कांग्रेस का बस्तर प्रेम कहाँ था?

जोगी ने कहा कि जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) बस्तरवासियों के लिए नदी, नौकरी और नारी की लड़ाई लड़ रही है और पोलावरम, इंद्रावती एवं नगरनार जैसे सभी जनहित के मुद्दों पर स्पष्ट नीति के साथ निर्णायक जनांदोलन कर रही है।
रिपोर्ट-हरदीप छाबड़ा
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY