भूकम्प जैसा झटका, सिर में तेज दर्द और कट गई चोटी

0
222

सलोन/रायबरेली (ब्यूरो)- रहस्यमय तरीके से कट रही चोटीयो पर संसय बरकरार है। प्रशासन इसे अफवाह बता कर इस ओर ध्यान नही देने की अपील कर रहा है। लेकिन उनकी इस अपील से ज्यादा गावो की महिलाओं में भय और डर का भूत सिर चढ़ कर बोल रहा है। इस घटना में कितनी सच्चाई है, इसका पता फिलहाल भविष्य के गर्त में छुपा है।

पहली घटना बीती रात कोतवली क्षेत्र के अतागंज उसरी गांव की है। 18 वर्षीय युवती आरती देवी पुत्री सुरेस कुमार खाना खा कर सोने चली गई। युवती की माँ के मुताबिक सोने से पहले उसने बालो का जुड़ा बांध कर लेटी थी। सुबह उसके बाल के जुड़े खुले थे। खाट के नीचे बाल कटे पड़े थे। और युवती बेहोस थी जिसे सलोन प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया। युवती के मुताबिक उसके सर में हल्का हल्का दर्द हुआ था रात्रि में, लेकिन उसके बाद उसे नही मालूम कि उसके बाल कैसे कटे, होश आने पर अस्पताल में भर्ती थी।

दूसरी और तीसरी घटना मंगलवार दोहपर पूरे रसूलपुर गांव की है। पीड़िता मंझली पत्नी कमलेश वा बीना देवी पत्नी समरजीत के मुताबिक दोपहर खाना खाकर चारपाई पर लेटी थी, तभी सर में तेज दर्द हुआ और भूकम्प जैसे हिलने लगा उसके बाद जब होस आया तो दोनों महिलाओं की चोटी जमीन पर कटी पड़ी थी।

अब सवाल उठना लाजमी है कि अगर ये अफवाह है तो कौन इस अफवाह को फैलने में मदद कर रहा है। ये कौन लोग है जो गांव की महिलाओं के दिलो दिमाग मे चोटी काटने का डर फैला रहे है। इससे उन शरारती तत्वों को क्या फायदा मिलेगा। जनपद के आलाधिकारी अभी तक इस घटना की असली सच्चाई लाने में क्यो कामयाब नही हुए है। जिससे चोटी कटने की घटना दिन प्रतिदनी बढ़ती जा रही है|

अनुज मौर्य/प्रदीप गुप्ता रिपोर्ट

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY