गर्भवती विवाहिता ने एएसपी से अंधे पुत्र के साथ न्याय की लगाई गुहार

0
22

दलसिंहसराय/समस्तीपुर(ब्यूरो)-  अनुमण्डल के एएसपी से एक गर्भवती महिला ने न्याय की गुहार लगाते हुए कही कि सर, मेरी मदद कीजिये। मेरे पति समेत ससुरालवालो ने एक लाख रुपये दहेज न देने के बदले मारपीट कर घर से निकाल दिया है। मेरा 5 वर्षीय अंधा एक पुत्र है, तथा पूर्व में भी मेरे रहते हुए दूसरी शादी कर मेरे पति ने हम माँ बेटे को नजरअंदाज कर दिया है।

ये शब्द हैं दलसिंहसराय थाने के सलखन्नी ग्राम निवासी मो शमसाद की पत्नी रौशन खातून की। जो शनिवार को एएसपी संतोष कुमार से रोते-बिलखते अपने पांच वर्षीय अंधा-अपाहिज पुत्र को गोद मे लेकर न्याय देने की गुहार लगाई। पीड़िता रौशन खातून ने दलसिंहसराय थानाध्यक्ष के नाम पूर्व में दिए आवेदन की छाया प्रति दिखाते हुए सलखननी गाँव के अपने पति शमशाद समेत सास, ससुर, भैंसुर आदि के विरुद्ध आरोप लगाई है, कि मेरी शादी लगभग 8 वर्ष पूर्व सलखन्नी गाँव के मो. यासीन साह के पुत्र मो शमसाद के साथ मुस्लिम रीति रिवाज के अनुसार सम्पन्न हुई थी। इसके उपरांत दहेज को लेकर पति समेत ससुरालवालो द्वारा मारपीट कर मुझे प्रताड़ित किया जाने लगा।

पीड़िता ने अपने पति पर आरोप लगाया कि मेरे रहते हुए दूसरी शादी विद्यापतिंनगर थाना के मऊ निवासी रिजवान की बेटी से कर लिया। लेकिन जब मैं इसका विरोध की तो उसे तलाक देकर पुनः मेरे साथ सुखमय दाम्पत्य जीवन बिताने लगा। जब एक अंधा अपाहिज पुत्र मुझसे जन्म लिया तो पुनः मुझे अपने माता पिता से दहेज में एक लाख रुपये देने का दवाब पति समेत ससुरालवाले देने लगे तथा 11 अगस्त को मारपीट कर घर से निकाल दिया।

एएसपी ने मामले की गंभीरता को देखते हुए थानाध्यक्ष को अविलम्ब जांच कर कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

रिपोर्ट- भूषण कुमार 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY