आंगनबाड़ी कर्मचारी महासभा ने डीएम को सौंपा ज्ञापन

बलिया (ब्यूरो)- विभिन्न विभागों में कार्यरत संविदा कर्मचारी अपने विभागीय कार्यां से कम, दूसरे विभागों के कार्यां से ज्यादे दबे हुए है। गैर विभागीय कार्यों के लिए उब चुके कर्मचारियों का कहना है कि इस कार्य के बदौलत मानदेय भी नहीं मिलता है। कार्य में कोई चुक हुआ तो दंडित भी होना पड़ता है। इसी को लेकर अखिल भारतीय आंगनबाड़ी कर्मचारी महासभा ने डीएम को ज्ञापन सौंपा।

जनपद अंतर्गत कार्यरत आंगनबाड़ी कार्यकत्री, मिनी कार्यकत्री एवं सहायिकाओं से विभागीय आदेशों के विपरीत अन्य विभागों का कार्य टीकाकरण, फैलेरिया, मलेरिया, आयरन की गोलिया बांटने से लेकर समाजवादी पेंशन, वृद्धा पेंशन, विकलांग पेंशन, राशन कार्ड सत्यापन का कार्य लिया जाता है कोई अलग से मानदेय नहीं मिलता है। यदि किसी प्रकार की त्रुटि कार्यकत्रियों से हो जाती है तो विभागीय कार्यवाही हेतु उच्चाधिकारियों को पत्र लिख दिया जाता है। जिसके आधार पर कार्यकत्रियों एवं सहायिकाओं का उत्पीड़न, शोषण किया जाता है।

जनपद के प्रत्येक परियोजनाओं में शासनादेश के अनुसार छः वर्ष से अधिक एक ही परियोजना में कार्यरत अधिकारी, कर्मचारी का स्थानांरतण दूसरे परियोजना में करने, जनपद के प्रत्येक परियोजना में कार्यरत कार्यकत्री, सहायिकाओं पदाधिकारियों का शोषण बंद करने, आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को पदोन्नति हेतु जनपद के प्रत्येक परियोजना में कार्यरत कार्यकत्रियों की वरिष्ठता सूची तथा उसके प्रति संघ को देते हुए आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित करने, प्रत्येक परियोजना में कार्यकत्री के रिक्त पदों पर शासनादेश के अनुसार सहायिकाओं को पदोन्नति, प्रत्येक परियोजना में कार्यरत आंगनबाड़ी, कार्यकत्री, सहायिकाओं का अकारण रोके, काटे गये मानदेय का तत्काल भुगतान, आंगनबाड़ी भवन निर्माण में प्राथमिक विद्यालय के अलावा दूसरे जगह पर स्थल चयन के समय आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों की राय लेने आदि को लेकर ज्ञापन सौंपा।

इस मौके पर वंशबहादुर यादव, विनोद सिंह, विरेन्द्र राम, रामेश्वर सिंह, बबिता उपाध्याय, पूनम उपाध्याय, किरन राम, असम वर्मा, सुशील वर्मा, रीना सिंह, रानी यादव, मंजू यादव, सुशीला पाण्डेय आदि मौजूद रहे। अध्यक्षता ऊषा सिंह तथा संचालन मोहन सिंह ने किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here