एंटी रैबिज इंजेक्शन आम पीडितो को न मिलने से रोष

0
143


आजमगढ़ –
मंडलीय/जिला अस्पताल में इनदिनों एंटी रेबीज इंजेक्शन की उपलब्धता नहीं है। जीव-जंतुओं के दुष्प्रभाव से पीड़ित मरीज इंजेक्शन के अभाव में अस्पताल का चक्कर काट रहे हैं। वहीं अस्पताल में तैनात कर्मचारी रसूखदारों को यह सुविधा चोरी-छिपे मुहैया करा रहे हैं। इसके कारण अस्पताल में प्रतिदिन अपनी बारी का इंतजार करने वाले मरीजों में रोष व्याप्त है।

एंटी रेबीज इंजेक्शन की अनुपलब्धता के चलते प्रतिदिन अस्पताल में मरीजों की भारी भीड़ जमा हो रही है। सुबह से ही लोग कतार में खड़े होकर अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं। वहां भी एंटी रेबीज विभाग काउंटर पर सुई उपलब्ध नहीं है का बोर्ड चस्पा कर दिया गया है। अस्पताल में पहुंचने वाले रसूखदारों को चोरी-छिपे यह सुविधा उपलब्ध होने पर पीड़ित मरीज भी इस आशा में लाइन लगाए इंतजार कर रहे हैं कि हो सकता है उन पर भी किसी को रहम आ जाए लेकिन ऐसा नहीं है।

अस्पताल में विचरण करने वाले दलाल मोटी रकम वसूल कर अस्पताल से बाहर स्थित एक कटरे में पीड़ित मरीजों को इंजेक्शन लगाने की सुविधा मुहैया करा रहे हैं। बाहर से आने वाले मरीज मजबूरी में शोषण का शिकार हो रहे हैं। बताया जाता है कि जो सुई मरीजों को उपलब्ध कराई जा रही है। उसकी आपूर्ति केवल सरकारी अस्पतालों में ही की जाती है। सुविधा शुल्क लेकर सुई लगाने वाले लोग मुंहमांगी कीमत से ज्यादा देने पर भी इंजेक्शन की शीशी नहीं दे रहे। कारण की उनकी कहीं पोल ना खुल जाए।

ऐसा देख अस्पताल में सुई के लिए लाइन लगाने वाले लोग अस्पताल प्रशासन पर ही सवाल खड़े कर रहे हैं कि आखिर अस्पताल की सुई बाहर कैसे उपलब्ध है। मंगलवार को एंटी रेबीज इंजेक्शन लगाने अस्पताल आए लोगों का धैर्य जवाब दे गया और काफी संख्या में मरीज अस्पताल के प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डा. जीएल केसरवानी से मिलकर उन्हें अस्पताल कर्मचारियों द्वारा किए जा रहे।

रिपोर्ट-संदीप त्रिपाठी “संगम”

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here