सपा का गढ़ माने जाने वाले छिबरामऊ में गैर सपाई भारी

0
380

कन्नौज : सपा का गढ़ कहे जाने वाले कंन्नौज में छिबरामऊ विधान सभा के इतिहास की बात करे तो 1997 में जिला बनने के बाद यहाँ पर हुए तीन चार विधानसभा चुनाव में तीन बार सपा के विधायक चुने गए जबकि एक बार बीजेपी का विधायक चुना गया वही संघर्स कर रही बसपा ने अभी तक इस विधानसभा ने पटखनी ही खायी है। 1996 विधान सभा के चुनाव में यहाँ पर सपा ने जीत हासिल की 2002 विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने जीत हासिल की 2007 और 2012 विधान सभा चुनाव में सपा ने ही जीत हासिल की जबकि दोनों बार यहाँ बसपा दूसरे और बीजेपी तीसरे स्थान पर रही।

2012 के विधानसभा चुनावी आंकड़ो पर नजर डालेंगे तो यहाँ महिला पुरुष मतदाता मिलाकर कुल 3लाख 80 हजार 995 मतदाता थे जिसमें 2 लाख 24 हजार 549 ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था । यहाँ पर सपा के विधायक अरविन्द सिंह यादव को 70 हजार 372 वोट मिले जबकि दूसरे स्थान पर सही बसपा के ताहिर हुसैन सिद्दीकी को 67 हजार 946 वोट बीजेपी तीसरे स्थान पर रही यहाँ बीजेपी प्रत्त्याशी अर्चना पांडेय को 61हजार 822 वोट मिले। दो बार से रनर रह रही बसपा को 2017 विधान सभा के चुनाव में सपा के गढ़ में सेंध लगा लेने का पूरा विश्वास है बसपा नेता तहसीन हुसैन सिद्दीकी का कहना है दो बार से बसपा वोटो के कुछ अंतराल से चुनाव हारती आ रही है

छिबरामऊ विधानसभा की जनता ने सपा और बीजेपी का कार्यकाल देख लिया अब उसने मन बना लिया है कि बदलाव आएगा वही जनता की बात करे तो जब से जिला बना है छिबरामऊ विधानसभा में विकास कागजो में हुवा है सड़के जर्जर है अस्पलातो में डॉक्टर नही जनता परेसान है जनता भी अब बदलाव चाहती है तीसरे नंबर पर रह रही बीजेपी भी सपा का किला ढहाने के लिए जी जान से जुट गयी है। 2017 विधान सभा चुनाव में छिबरामऊ में इसबार 3 लाख से ऊपर मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे |

रिपोर्ट – सुरजीत सिंह

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY