एशियाई मूल के ब्रिटिश सांसद ने कोहिनूर भारत को वापस करने के लिए आवाज़ उठाई

0
225

kohinoor

हाल ही में कांग्रेस सांसद शशि थरूर के ऑक्सफोर्ड यूनियन में दिए गए भाषण जिसमें उन्होंने ब्रिटेन से 200 वर्षों तक भारत पर बर्बर औपनिवेशिक शासन के लिए हर्जाने की मांग की थी के समर्थन में ब्रिटिश सांसद कीथ वाज ने नवंबर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ब्रिटेन के संभावित दौरे के समय विश्व  प्रसिद्ध कोहिनूर हीरा भारत को लौटाने का आह्वान किया है। वाज ने कहा, मैं डॉ. थरूर के बयान और प्रधानमंत्री मोदी द्वारा उनके संदेश का समर्थन किए  जाने का स्वागत करता हूं। मैं उनके दृष्टिकोण से सहमत हूं। ये जायज आपत्ति है, जिसका समाधान होना चाहिए।

सबसे लंबे समय तक एशियाई मूल के ब्रिटिश सांसद रहने वाले वाज ने कहा कि वित्तीय हर्जाना देना एक जटिल, समय लेने वाली और निरर्थक प्रक्रिया है। लेकिन कोहिनूर हीरे जैसी अमूल्य वस्तुओं को नहीं लौटाने के लिए कोई औचित्य नहीं बनता । मैंने कई साल तक इस मुहिम का समर्थन किया है। पीएम मोदी का नवंबर में ब्रिटेन का दौरा होना है और ब्रिटिश प्रधानमंत्री डेविड कैमरन मजबूत द्विपक्षीय संबंध बरकरार रखने के लिए असाधारण प्रयास कर रहे हैं। वाज ने कहा “वह कितना शानदार क्षण होगा, जब यदि प्रधानमंत्री मोदी अपनी बहुत दिनों से प्रतीक्षित यात्रा को संपन्न करते हैं तथा वह हीरे को लौटाए जाने के वादे के साथ भारत लौटते हैं |”

कोहिनूर सन् 1655 के आसपास भारत के गोलकुण्‍डा जिले की कोहिनूर खान से निकला तब हीरे का वजन था 787 कैरेट। इसे बतौर तोहफा खान मालिकों ने शाहजहां को दिया। सन्1739 तक हीरा शाहजहां के पास र‍हा। फिर इसे नादिर शाह के पास र‍हा। इसकी चकाचौधं चमक देखकर ही नादिर शाह ने इसे कोहिनूर नाम दिया। कोहिनूर को रखने वाले आखिरी हिन्‍दुस्‍तानी पंजाब का रणजीत सिंह था। सन् 1849 मे पंजाब की सत्‍ता हथियाने के बाद कोहिनूर अंग्रेजों के हाथ लग गया। फिर सन् 1850 में ईस्‍ट इण्डिया कम्‍पनी ने हीरा महारानी विक्‍टोरिया को भेंट किया। इंग्‍लैण्‍ड पंहुचते-पंहुचते कोहिनूर का वजन केवल 186 रह गया। महारानी विक्‍टोरिया के जौहरी प्रिंस एलवेट ने कोहिनूर की पुन: कटाई की और पॉलिश करवाई। सन् 1852 से आज तक कोहिनूर को वजन 105.6 ही रह गया है। सन् 1911 में कोहिनूर महारानी मैरी के सरताज में जड़ा गया। और आज भी उसी ताज में है। इसे लंदन स्थित ‘टावर आफ लंदन’ संग्राहलय में नुमाइश के लिये रखा गया है।

 

फोटो सोर्स – Incredible India  जानकारी स्रोत – विकिपीडिया

अखंड भारत परिवार बेहतर भारत निर्माण के लिए प्रयासरत है, आप भी इस प्रयास में फेसबुक के माध्यम से अखंड भारत के साथ जुड़ें, आप अखंड भारत को ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

20 − twenty =