अस्पताल में तडपते रहे दिव्यांग, अस्पताल प्रशासन से उनकी सुध लेने नहीं पहुँच सका कोई

0
129

divyang in hospital

बलिया (ब्यूरो)- जिला अस्पताल में रविवार को फालोअप कराने पहुंचे करेक्टिव सर्जरी कराने वाले दिव्यांग मरीज पूरे दिन तड़पड़ाते रहे लेकिन इनकी कोई सुध लेने वाला नहीं था। इसी छह से आठ फरवरी के बीच जिले के करीब 72 मरीजों की करेक्टिव सर्जरी दिल्ली से आई चिकित्सकों की टीम ने की थी। 19 फरवरी को इन सभी दिव्यांग मरीजों को फालोअप के लिए बुलाया गया था। जिला विकलांग जन विकास विभाग ने दिल्ली से चिकित्सकों के आने का हवाला देते हुए ऐसे मरीजों को जिला अस्पताल में उपस्थित रहने की सूचना दिए थे।

ऐसे में सूचना के बाद जिले के कोने-कोने से सर्जरी वाले मरीज सुबह ही पहुंच गए। इस दौरान जब वे अस्पताल पहुंचे तो चिकित्सकों के बारे में कुछ भी पता नहीं चला। दिव्यांग मरीजों के परिजन इधर से उधर घूम कर चिकित्सकों के बारे में पूछते रहे लेकिन कहीं से जानकारी नहीं मिली। हालात थे कि थक-हार कर मरीज अस्पताल परिसर में बैठे रहे पर कोई उनको पूछने वाला तक नहीं था।

स्थिति यह रही कि दोपहर तक जिला विकलांग जन विकास विभाग से भी कोई नहीं पहुंच सका था। ऐसे में दिव्यांग मरीज पूरे दिन हलकान होते रहे लेकिन उनको कहीं से राहत नहीं मिली। अस्पताल के लोग भी इनमें कोई रुचि नहीं ले रहे थे जिससे करीब 50 के संख्या में पहुंचे मरीज भूखे-प्यासे पूरे दिन चिकित्सकों की राह ताकते रह गए। मानवता को तार-तार करने वाले इस तरह के कृत्य को लेकर अस्पताल में आने वाले अन्य लोग भी अस्पताल प्रशासन व विकलांग विभाग को कोसते रहे।

रिपोर्ट-संतोष कुमार शर्मा

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY