अपनी करनी का फल भुगत रहा पाकिस्तान, ISI का आत्मघाती हमला

0
226

dargah laal shahbaz

इस्लामाबाद- पाकिस्तान के सिंध प्रांत के सहवान कस्बे में स्थित लाल शाहबाज कलंदर दरगाह के भीतर गुरुवार रात आईएसआईएस के एक आताम्घाती हमलावर ने हमला बोल दिया | आपको बता दें कि इस आत्मघाती हमले में दरगाह के भीतर मौजूद तकरीबन 100 लोगों के आस-पास लोगों की मौत हो गयी है जबकि बताया जा रहा है कि तक़रीबन 250 के आस-पास संख्या में लोग घायल भी हो गये है |

हफ्ते के भीतर पांचवा आतंकी हमला-
प्राप्त जानकारी के आधार पर बताया जा रहा है कि पाकिस्तान में बीते एक सप्ताह के भितार यह पांचवा बड़ा आतंकी हमला है | गुरूवार रात हुए इस हमले के बारे में आपको बता दें कि यह हमला तब हुआ है जब दरगाह परिसर में सूफी रस्म ‘धमाल’ हो रही थी | यह विस्फोट दरगाह के उस हिस्से में हुआ है जो इलाका महिलाओं के सुरक्षित किया गया था | जिससे यह साफ़ हो जाता है कि हमलावर कहीं न कहीं ज्यादातर महिलाओं और उनके साथ रहे मासूम बच्चों को अपना निशाना बनाना चाहता था |

पहले फेंका ग्रेनेड जब नहीं हुआ विस्फोट तो खुद को उड़ा दिया –
प्रत्यक्ष दर्शियों और मीडिया में आई रिपोर्ट के मुताबिक बताया जा रहा है कि आतंकी ने सबसे पहले आस-पास भीड़ को तितर-बितर करने के लिए एक हैण्ड ग्रेनेड फेंका लेकिन ग्रेनेड से विस्फोट नहीं हुआ | इससे पहले सुरक्षाबल कुछ समझ पाते आतंकी ने खुद को ही उड़ा दिया |

आस-पास के इलाकों में लगी इमरजेंसी-
इलाके के पुलिस अधिकारी के अनुसार यह हमला जहाँ पर हुआ है वहां से यदि सबसे नजदीकी अस्पताल की दूरी की बात करें तो वह भी तकरीबन 40 किमी की दूरी पर है | घटना के बाद इलाके के सभी अस्पतालों में इमरजेंसी लगा दी गयी है | घटना के बाद पाकिस्तानी सेना प्रमुख कमर जावेद ने सेना को सिविल अथॉरिटीज को मदद करने का निर्देश दिया है|

सेना की टुकडियां मेडिकल स्टाफ के साथ लोगों की मदद के लिए भेजी जा रही हैं| कंबाइंड मिलिट्री हॉस्पिटल, हैदराबाद को गंभीर रूप से घायलों की इलाज के लिए अलर्ट किया गया है| एदी फाउंडेशन के फैसल एदी ने इस बात की पुष्टि की है कि 60 शवों को हैदराबाद और जमशोरो के अस्पताल में ले जाया गया है|

आईएसआईएस ने अपनी समाचार एजेंसी अमाक के जरिए हमले की जिम्मेदारी ली और कहा कि आत्मघाती हमलावर ने दरगाह में ‘शिया लोगों’ को निशाना बनाया| पाकिस्तान में साल 2005 से देश की 25 से अधिक दरगाहों पर हमले हुए हैं. हैदराबाद के आयुक्त काजी शाहिद ने कहा कि यह दरगाह दूरस्थ इलाके में स्थित है, ऐसे में हैदराबाद, जमशोरो, मोरो, दादू और नवाबशाह से एंबुलेंस एवं वाहनों तथा चिकित्सा दलों को मौके पर भेजा जा रहा है|

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY