बाबा का 55 वां सलाना उर्स बड़ी ही धूम धाम से सम्पन्न

0
97


पुरवा/उन्नाव : उचय हजरत न्यामतउल्ला -रु39यााह बाबा का 55 वां तीन रोजा सालाना उर्स बड़ी ही धूम धाम से मनाया गया। जहां उर्स की रु39याुरूआत प्रथम दिन बुधवार को कुरान -रु39यारीफ की तिलावत के बाद हजरत अल्लामा मौलाना सय्यद सलमान अ-रु39यारफ सज्जादा नसीन आस्तानए आलिया मख्दमू अ-रु39यारफी जायसी ने आये हुए समाज के लोगों को बुरे कामों से परहेज व नेक काम करनें तथा गरीब मजलूम बेसहारा तथा दबे कुचले लेागों की दिल से मदद करनें का संदे-रु39या दिया और जुंवा -रु39याराब गीबत खोरी से परहेज करनें की नसीहत दी वहीं दूसरे दिन 29 नवम्बर 2018 को उत्तर भारत के म-रु39याहूर कव्वाल अतावारिस नागपुरी, व -रु39यााहरूख कव्वाल कानपुरी के बीच जवाबी कव्वाली का आयोजन हुआ। वहीं दूसरे दिन 30 नवम्बर 2018 को कव्वाल लतीफ अजमेरी कानपुरी व -रु39यारीफ परवाज कानपुरी के बीच जवाबी कव्वाली का आयोजना हुआ।


प्राप्त विवरण के अनुसार नगर के मोहल्ला सय्यदवाड़ा में स्थिति दरगाह हजरत न्यामत उल्ला -रु39यााह बाबा का 55वां सालाना उर्स बड़ी धूमधाम से मनाया गया। जहां उर्स की -रु39याुरूआत के पहले दिन उत्तर भारत के अलावा दे-रु39या के अन्य प्रदे-रु39याों में प्रख्यात साहिबे इल्म सज्जादा नसीन
हजरत अल्लामा मौलाना सय्यद सलमान अ-रु39यारफी जीलानी जायसी व हजरत मौलाना हाफिज व कारी रज्जब अली मिसबाही व हजरत अल्लामा मौलाना, नौ-रु39यााद अली अ-रु39यारफी व हजरत अल्लामा मौलाना जान मोहम्मद साहब प्रिंसिपल मदरसा बागे मदीना आदि तमाम उलमाओं ने सुन्नत अहले जमात के नवयुवकों को बुरे कामों जैसे -रु39याराब खोरी जुवां, गीबत खोरी तथा -हजयूठ बोलना जिनाकारी करनें से सख्त हिदायत की और नेक काम जैसे नमाज, प-सजय़ना गरीब कमजोर मजलूमों बेसहारों व दबे कुचले लोगों की मदद करनें से अल्लाह राजी होता है तथा बुरे कार्यों से परहेज करनें की अपील की।

वहीं 29 नवम्बर 2018 को जवाबी कव्वाली का आयोजन हुआ जिसमें अतावारिस नागपुर व -रु39यााहरूख कानपुरी को जवाबी कव्वाली का लोगों ने लुत्फ उठाया तथा 30 नवम्बर 2018 को उत्तर भारत के म-रु39याहूर कव्वाल लतीफ अजमेरी व -रु39यारीफ परवाज कानपुरी के बीच में जवाबी कव्वाली का आयोजन हुआ जिसमें कव्वाल लतीफ अजमेरी ने कुछ इस तरह कहा कि (मेरे नबी ने भी देखा था इस वतन की तरफ-ंउचय(यहां वफा है यहीं आपका इ-रु39याारा था) (फकत मु-हजयी को नही मेरा मुल्क जां से अजीज) मेरे नबी को भी हिन्दुस्तान प्यारा था। वहीं कव्वाल -रु39यारीफ परवाज नें कहा ‘‘जर्रे को चट्टान बना दे या अल्लाह, वहसी को इन्सान बना दे या अल्लाह, हिन्दू-ंउचयमुस्लिम एक ही थाली में खाये, ऐसा हिन्दुस्तान बनादे या अल्लाह। उर्स के मौके पर दिल्ली, बम्बई, कल्कत्ता, गुजरात, कानपुर, लखनऊ जैसे तमाम -रु39याहरों से हजरत न्यामतउल्ला -रु39यााह के चाहने वाले तमाम अकीदतमन्दों ने बाबा की दरगाह पर चादरपो-रु39याी की और अमन चैन की दुआ मांगी। वहीं इस मौके पर कमेटी के प्रबन्धक मो0 फैसल खाँन, उर्स कमेटी के सदर मेराज अहमद ने उर्स के मौके पर आय हुए लोगों का खैर मकदूम किया।

रिपोर्ट – मो0 अहमद चुनई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here