बाबू जी… बाहर की महंगी दवा ही खरीदे

0
134

रायबरेली(ब्यूरो)- जी हां सही पढ़ा आपने कुछ ऐसा कारनामा डलमऊ chc का जहा चाहे कोई भी मरीज जाए दवा बाहर की लिखी जाएगी| चाहे मरीज को बुखार हो या सर दर्द अस्पताल से दवा नही मिलेगी जो व्यक्ति दवा खरीदने में सक्षम होता है वो तो बाहर से खरीद लेता है पर जो नही खरीद सकता वो बिना दवा लिए ही वापिस जाने को मजबूर होता है| आखिर सरकार के आदेशों की क्यू उड़ा रहे है धज्जिया, जब बाहर की दवा नही लिखी जानी है तो फिर क्यों आदेश नही मान रहे है? शायद अब आदत पड़ चुकी है इन लोगो को कि आदेश देते रहिये हम करेंगे अपनी ही मर्ज़ी से काम फिर चाहे cmo साहब कितना भी आदेश देते रहे |

ऐसा ही मामला देखने को मिला डलमऊ थाना क्षेत्र के शेकवाड़ा ग्राम निवासी लाला साह जिन्हें तेज बुखार था सोचे डलमऊ chc जाके डॉक्टर साहब को दिखवाकर अस्पताल से दवाइया ले लेंगे लेकिन उन्हें क्या मालूम था कि डॉक्टर साहब को बाहरी दवाओं पर ज्यादा भरोसा है| मरीज को देखने के बाद डॉक्टर साहब ने दवा लिखी तो लेकिन बाहर की दवाई इतनी महंगी थी कि वो उन्हें खरीद न सका |

क्या सरकारी अस्पतालों में दवाओं का टोटा हो गया है या वे सरकारी दवाई लिखना नही चाहते जबकि जिला अधिकारी का सख्त निर्देश है कि मरीजो को अस्पताल से दवा उपलब्ध कराई जाए सायद उन्हें किसी भी आदेश या कार्यवाही का कोई डर नही|

रिपोर्ट- अनुज मौर्य

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here