मोदी सरकार की लचर और कमजोर विदेशनीति का इससे बड़ा प्रमाण और कोई नहीं

0
399

india-nepal-flag1

पिछले डेढ़ सालों से लगातार चारों तरफ पूरी दुनिया में घूम-घूम कर अपनी ब्रांडिंग करने वाले देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी केबिनट की अब तक की सबसे बड़ी असफलता सभी के सामने आज प्रत्यक्ष रूप से आ रही है I पूरी दुनिया में भारत की गाथा सुनाने वाली और भारत को दुनिया के सामने सबसे प्रभावशाली देश की तरह से स्थापित करने वाली मोदी सरकार और उनकी विदेशनीति पूरी तरह से असफल दिखायी पड़ रही है I

भारत का सबसे बड़ा मित्र और पडोसी देश नेपाल जो हमेशा से ही अपनी दैनिक आवश्यकताओं के लिए केवल और केवल भारत पर ही आश्रित था आज भारत को छोड़ भारत के कट्टर प्रतिद्वंदी चीन की तरफ मित्रता का हाथ बढाने पर मजबूर हो रहा है I जो कि स्वतंत्र भारत के इतिहास में आजतक कभी नहीं हुआ I अपने सभी पडोसी देशों के साथ मधुर सबंध रखने की वकालत करने वाली मोदी सरकार की नेपाल के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप और अचानक से नेपाल में भारत की तरफ से भेजी जाने वाली चीजों की आपूर्ति को ठप करने की वजह से नेपाल सरकार इस निर्णय के लिए मजबूर हुई है I
ज्ञात हो कि हाल ही में नेपाल में नये संविधान की रचना की गयी है जिसकी वजह से नेपाल आजकल आंतरिक विद्रोह की ज्वाला में जल रहा है और ऐसे में भारत सरकार ने भी नेपाल में भारत की तरफ से भेजी जाने वाली दैनिक आवश्यकताओं की पूर्ती करने वाली चीजें जैसे – रसद, गैस, दवाओं आदि की आपूर्ति को भी पूरी तरह से अनिश्चित काल के लिए ठप कर दिया है I जिसकी वजह से आंतरिक समस्याओं से जूझ रहा नेपाल और खाने-पीने की समस्याओं से भी परेशान हो रहा है I
भारत की तरफ से लगातार उपेक्षा का शिकार हो रहा है नेपाल और चीन के साथ हाथ मिलाने की तैयारी कर रहा है I नेपाल की सरकार ने यह निर्णय लिया है कि अब वह अपनी दैनिक आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए चीन के साथ समझौता करेगी और तिब्बत के रास्ते से वह इन सभी चीजों की पूर्ति करेगी I ज्ञात हो कि इसी साल अप्रैल के महीने में नेपाल में आये विनाशकारी भूकंप की वजह से चीन को नेपाल से जोड़ने वाले मार्ग पूरी तरह से छतिग्रस्त हो गए थे जिसकी वजह से नेपाल का चीन के साथ पूरा सम्बन्ध समाप्त हो गया था I लेकिन अब उन सभी रास्तों को फिर से दुरुस्त कर लिया गया और अब नेपाल भारत की बजाय चीन से इन सभी दैनिक चीजों की आपूर्ति कर सकता है I

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

1 × one =