विनाश काले विपरीत बुद्धि चरितार्थ करते कुछ दल

0
141

महाराजगंज रायबरेली। बछरावां विधानसभा में चर्चा का विषय बने कांग्रेसी उम्मीदवार को लेकर तरह-तरह की चर्चाएं अब आम होती जा रही है । लोगों का मानना है कि कांग्रेस पार्टी से सुशील पासी को टिकट ना मिलना या मिलकर भी वापस ले लेना यह घटना कांग्रेस पार्टी के आलाकमान द्वारा आम राय से लिया गया फैसला नहीं दिखाई दे रहा है । इसके पीछे विधानसभा क्षेत्र के कुछ राजनीतिक विशेष लोगों का हाथ माना जा रहा है । बुद्धिजीवी लोगों का मानना है कि कांग्रेस पार्टी की ओर से पार्टी के पुराने और जिम्मेदार कार्यकर्ताओं को टिकट ना देकर एक ऐसे आम व्यक्ति को टिकट देना जिसका पूरे विधानसभा क्षेत्र में कोई जनाधार नहीं दिखायी दे रहा है । और सुशील पासी को टिकट देकर भी वापस ले लेना कांग्रेस के लिए एक कहावत विनाश काले विपरीत बुद्धि चरितार्थ होती नजर आ रही है । उम्मीदवार घोषित होने से पूर्व फ्रंट फुट पर चल रही कांग्रेस पार्टी उम्मीदवार घोषित होते ही बैंक फुट पर आ गयी है । सपा कॉंग्रेस में अन्दरुनी अंतर्कलह के चलते इसका फायदा बसपा व भाजपा को मिलता जरूर दिखायी दे रहा है । सपा कांग्रेस गठबंधन से बसपा हमलावर होती दिखायी दे रही है । वहीं भाजपा ने भी पूरे विधानसभा क्षेत्र में अपना जनसम्पर्क तेज कर दिया है । अगर कांग्रेस पार्टी उम्मीदवार की बात की जाय तो सपा के ज्यादातर लोग गठबंधन के चलते कांग्रेस को वोट देने के नाम पर असमंजस की स्थित में हैं । वहीं पूर्व सपा विधायक के राष्ट्रीय लोक दल में जाने से बहुत से मतदाता इस उम्मीद से लोक दल में जा रहे हैं कि अभी बाद में रालोद का सपा से गठबंधन होगा और पूर्व विधायक को फिर से सहर्ष अपनायेगी । ऐसी लोगों को दिलासा दी गयी है । जिससे मतदाता कहीँ न कहीँ भ्रम की स्थिति में नजर आ रहे हैं । जिसका सबसे वड़ा नुकसान कांग्रेस का होने वाला है ।
रिपोर्ट – राजेश यादव

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY