दुष्कर्म आरोपी चाचा समेत सात आरोपियों की जमानत खारिज

0
39

सुलतानपुर (ब्यूरो) किशोरी से दुष्कर्म व मासूम से दुष्कर्म के प्रयास समेत चार गंभीर मामलों में आरोपियों की तरफ से संबंधित अदालतों में जमानत अर्जी पेश की गई। जिस पर सुनवाई के पश्चात स्पेशल जज पाक्सो एक्ट अनिल कुमार यादव व जिला जज प्रमोद कुमार ने आरोपियों की जमानत अर्जी खारिज कर दी।  पहला मामला कादीपुर कोतवाली क्षेत्र से जुड़ा है। जहां के रहने वाले आरोपी रिंकू उर्फ राजेश के खिलाफ अपनी ही भतीजी से दुष्कर्म का आरोप है। जिसके संबंध में बीते 6 नवम्बर की घटना बताते हुए पीड़िता की मां ने मुकदमा दर्ज कराया।

इसी मामले में आरोपी रिंकू की तरफ से स्पेशल जज की अदालत में जमानत अर्जी पेश की गई। दूसरा मामला कूरेभार थानाक्षेत्र के पीपरगांव से जुड़ा है। जहां के रहने वाले आरोपी रोहित कुमार के खिलाफ बीते 9 जून की घटना बताते हुए अभियोगिनी ने अपने सात वर्षीय बेटी से दुष्कर्म के प्रयास व अश्लील हरकत के आरोप में रोहित के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया। इस मामले में आरोपी रोहित की तरफ से स्पेशल जज की अदालत में जमानत अर्जी पेश की गई। दोनों ही मामलों में प्रस्तुत जमानत अर्जी पर सुनवाई के दौरान शासकीय अधिवक्ता अब्दुल मोमीन ने बचाव पक्ष के तर्कों को निराधार बताते हुए जमानत पर विरोध जताया। तत्पश्चात स्पेशल जज अनिल कुमार यादव ने आरोपी की जमानत अर्जी खारिज कर दी। तीसरा मामला जगदीशपुर थानाक्षेत्र के सिन्धियावा गांव का है। जहां के रहने वाले आरोपी कृपाशंकर यादव, शंकर यादव उर्फ रामशंकर यादव के खिलाफ उनके गांव के ही राजकरन यादव ने स्वयं व अपने परिवारीजनो को धारदार हथियार से गंभीर चोट पहुँचाने के संबंध में मुकदमा दर्ज कराया है।

इसी मामले में आरोपी कृपाशंकर व शंकर की तरफ से जिलाजज की अदालत में जमानत अर्जी पेश की गई। चौथा मामला भी जगदीशपुर थानाक्षेत्र के ही रानीगंज का है। जहां के रहने वाले अभियोगी वंश बहादुर ने अपनी पत्नी शिवकुमारी व मां राजकुमारी समेत अन्य को धारदार हथियार से गंभीर चोट पहुंचाने के मामले में आरोपीगण राम बहादुर, लाल बहादुर, अर्जुन कुमार आदि के विरूद्ध मुकदमा दर्ज कराया है। इसी मामले में राम बहादुर, लाल बहादुर व अर्जुन की तरफ से जिलाजज की अदालत में जमानत अर्जी पेश की गई। दोनों ही मामलो में सभी आरोपियों की तरफ से अंतरिम जमानत अर्जी की मांग की गई। जिस पर जिला शासकीय अधिवक्ता शुकदेव यादव ने विरोध जताया। तत्पश्चात जनपद न्यायाधीश प्रमोद कुमार ने आरोपियों की जमानत अर्जी खारिज कर दी।

रिपोर्ट – संतोष यादव

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY