बलिया नगर में चल रही वधशाला, हिन्दू युवा वाहिनी ने डीएम को सौंपा ज्ञापन

0
91

बलिया (ब्यूरो)- मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एवं शासन के मंशा के अनुरूप इस आशय का शासनादेश मुख्य सचिव द्वारा पूर्व में ही जारी किया जा चुका है कि प्रदेश में किसी भी स्थान पर अवैध वध शालाओं का संचालन नहीं किया जायेगा। नगरपालिका परिषद बलिया के अंदर मात्र दो वधशालाएं थी, जिसमें एक वधशाला बडे जानवरों हेतु तथा एक वधशाला छोटे जानवरों के वध हेतु संचालित थी।

इसके सम्बंध में नगरपालिका परिषद बलिया के अधिशासी अधिकारी द्वारा प्रेषित अपने पत्र 25 मार्च 2017 में यह स्पष्ट किया गया है। ये दोनों उक्त वधशालाएं पूर्व में शासन के मंशा के अनुरूप बंद करायी जा चुकी है तथा नगर परिषद रसड़ा के सम्बंध में इनके द्वारा अपने इसी पत्र में स्पष्ट किया गया है कि रसड़ा नगर परिषद में एक मात्र वधशाला थी, जिसका लाइसेंस निरस्त कर दिया गया है तथा शेष सात निकायों में कोई वधशाला नहीं है। बावजूद इसके बलिया जनपद के भीतर छोटे पशुओं का वधन धड़ल्ले से कर इनकी बिक्री की जा रही है जो मुख्यमंत्री के एक शासन के मंशा के विपरीत है। ये सारे अवैध जनपद में स्थानीय पुलिस की मदद से सम्पादित कराया जा रहा है, जो बेहद चिंतनीय विषय है, जिसे हर हाल में रोका जाना नितांत आवश्यक है। उपरोक्त तथ्यों का संज्ञान में लेते हुए विषय पर आपके द्वारा गंभीरता से विचार किये जाने तथा इसे संचालित कराने में दोषी स्थानीय पुलिस प्रशासन के व्यक्तियों तथा अन्य के विरूद्ध पुलिस अधीक्षक के माध्यम से दण्डात्मक कार्यवाही सुनिश्चित करायी जावें ताकि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एवं शासन की मंशा का शत-प्रतिशत क्रियान्वयन जनपद में सुनिश्चित हो सके।

ज्ञापन सौंपने वालों में पंकज सिंह, राकेश सिंह, संजय गुप्ता, अभयनारायण, पीयुष सिंह, अवनीश राय, कृष्णा वर्मा, विवेक सिंह गौतम, राकेश सिंह, रवि प्रकाश राय, चंद्रन सिंह, कन्हैया सोनी, सूर्यकांत गुप्ता, अंकुर उपाध्याय, विकास ठाकुर मिनी, मनीष सिंह उज्जैन, अमित तिवारी, राहुल गोंड, निशांत मिश्र, सदानंद ओझा, मिथिलेश कुमार आदि मौजूद रहे।

रिपोर्ट- संतोष कुमार शर्मा 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here