बांग्लादेश के बाद एक बार फिर बंटेगा पाकिस्तान, बनेगा एक और आज़ाद मुल्क बलूचिस्तान

0
7409

pm modi1

दिल्ली- पिछले 70 सालों से अपनी आज़ादी की बाँट जोह रहा बलूचिस्तान अब आज़ादी की अपनी लड़ाई की रणनीति को पूर्णतः बदल रहे है | बता दें कि अभी तक बलूच आदोलनकारियों ने अभी तक बलूचिस्तान की इस लड़ाई से पाकिस्तान के प्रमुख शहरों को दूर रखा था लेकिन अब बलूच्ज आन्दोलनकारियों ने अपनी रणनीति में परिवर्तन करते हुए पाकिस्तान को धमकी देते हुए एलान किया है कि अब पाकिस्तान के मुख्य शहर भी इस लड़ाई से दूर नहीं रहेंगे | बलूच आन्दोलनकारियों ने एलान किया है कि अब बलूच आन्दोलन की रणभूमि पाकिस्तान के मुख्यशहर भी होंगे जैसे लाहौर, इस्लामाबाद, क्वेटा इत्यादि |

बलूचिस्तान के लोगों ने भी अब पूर्वीपाकिस्तान आज के बांग्लादेश की ही भाँती यह ठान लिया है कि हथियारों की दम पर अब अपने देश को आज़ादी दिला कर रहेगे | बलूचिस्तान के लोगों ने पाकिस्तानी सरकार को सीधे तौर पर धमकी देते हुए कहा है कि अब बलूचिस्तान की सेना आत्मरक्षा की बजाय आक्रमण की नीति को अपनायेगी | अभी तक बलूचिस्तानी सेना केवल आत्मरक्षा ही कर रही थी लेकिन उन्होंने अपनी रणनीति बदल दी है | बलूचिस्तान आन्दोलनकारियों ने एलान किया है कि अब जंग का मैदान बलूचिस्तान नहीं बल्कि पाकिस्तान होगा |

बलूचिस्तान के लोगों का कहना है कि पाकिस्तानी आर्मी ने उनकी जिंदगी को नरक से भी बदतर बना दिया है | इस नरक से निकलने का अभी उनके पास कोई विकल्प शेष नहीं बचा हुआ है | इसीलिए अब वे पाकिस्तान के ऊपर हमले करेंगे | बता दें कि बलूचिस्तान आन्दोलनकारियों के पास अपनी खुद की तीन सेनायें है जिन्हें संगठन कहा जाता है | पाकिस्तान ने बलूचिस्तान के इन तीनों ही संगठनों को बैन कर रखा है | ये तीन संगठन बलूचिस्तान लिबरेशन फ्रंट, बलूचिस्तान लिबरेशन आर्मी, बलूचिस्तान रिपब्लिकन आर्मी हैं |

चीन को भी दी सीधी धमकी –
बलूचिस्तानी सेनाओं ने सीधे तौर पर चीन को धमकी देते हुए कहा है कि बलूचिस्तान के ग्वादर बंदरगाह पर चीन या फिर दुनिया का कोई अन्य देश अपने पैसे को बर्बाद न करें | उन्होंने कहा है कि दुनिया के किसी भी देश को बलूचिस्तान की संपत्ति को लूटने नहीं दिया जाएगा | बता दें कि बलूचिस्तान में स्थित ग्वादर बंदरगाह का विकास चीन पाकिस्तान के साथ मिलकर कर रहा है | इस बंदरगाह से होने वाली इनकम का 75 प्रतिशत हिस्सा चीन का होगा जबकि पाकिस्तान का हिस्सा 25 प्रतिशत होगा लेकिन जहां पर यह बंदरगाह स्थित यानी बलूचिस्तान उसका इस परियोजना में केवल 2 प्रतिशत ही हिस्सा होगा |

बांग्लादेश की ही तरह एक दिन बनेगा आज़ाद मुल्क बलूचिस्तान-
बलूचिस्तान के निवासियों का मानना है कि एक न एक दिन अब बलूचिस्तान भी बांग्लादेश की ही तरह से आज़ाद मुल्क अवश्य बनेगा | गौरतलब है कि बांग्लादेश भी पहले पूर्वी पाकिस्तान हुआ करता था और भारत पाकिस्तान के 1971 के युद्ध के बाद पाकिस्तान का यह पूर्वी हिस्सा आज़ाद हो गया था और भारत ने ही इस मुल्क को आज़ाद करवाया था और आज यह एक स्वतंत्र राष्ट्र बांग्लादेश है |

प्रधानमंत्री मोदी के समर्थन के बाद आन्दोलन में आई है नई जान –
बता दें कि इस बार स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने खुले तौर पर बलूचिस्तान के लोगों का समर्थन करते हुए उनका धन्यवाद किया है | पीएम मोदी के इस समर्थन के बाद बलूचिस्तान के आन्दोलनकारियों में एक नई उर्जा का संचार हुआ है | बलूचिस्तान के लोगों ने भरोषा जताया है कि यदि पीएम मोदी का समर्थन उन्हें अब प्राप्त हो गया है तो उन्हें पाकिस्तान से आज़ादी मिलने में कोई रोक नहीं सकता है एक न एक दिन उनका मुल्क अवश्य आज़ाद होगा |

बता दें कि वर्ष 1948 तक बलूचिस्तान एक आज़ाद मुल्क था लेकिन 1948 में पाकिस्तानी सेना ने जबरन बलूचिस्तान पर हमला करके इसे अपने कब्जे में कर लिया था | तभी से यहाँ पर आज़ादी की जंग चल रही है और आज 70 साल बीत गए है लेकिन बलूचिस्तान आज़ाद नहीं हो पाया है हालाँकि बलूचिस्तान के लोगों को अभी भी विश्वास है कि वे एक न एक दिन अवश्य आज़ाद होंगे |

 

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY