बांग्लादेश के पूर्व मंत्री और सबसे बड़ी पार्टी के नेता ज़मात-ए-इस्लामी प्रमुख मतिउर रहमान को फांसी पर लटकाया गया

0
4403

ढाका – बांग्लादेश की सबसे बड़ी पार्टी ज़मात-ए-इस्लामी के प्रमुख मतिउर रहमान को आज तक़रीबन 12:01 मिनट पर ढाका सेन्ट्रल जेल में फांसी पर लटका दिया गया | मतिउर रहमान निजामी को बांग्लादेश में हुए 1971 युद्ध में दोषी पाया गया था | बता दें कि निजामी के ऊपर तक़रीबन 450 हत्याओं का आरोप है इतना ही नहीं निजामी के ऊपर आरोप है कि इसने खुद आदेश देकर अनेकों महिलाओं के साथ 1971 में बलात्कार और ह्त्या जैसे अपराध किये है और करवाएं है |

1971 में भीषण नर संहार, बलात्कार, देश विरोधी हरकतों का है जिम्मेदार –
बांग्लादेश की कोर्ट ने माना है कि निजामी के आदेश पर बांग्लादेश से हजारों हज़ार हिन्दुओं को भगाया गया था और इतना ही नहीं अनेकों महिलाओं के साथ बलात्कार की घटना भी निजामी के कहने पर ही हुई थी | अदालत ने यह भी माना है कि निजामी ने अपने ही गाँव संथिया के धुलौरा में आदेश देकर एक साथ 30 लोगों की ह्त्या करवा दी थी | यह घटना नंबर 1971 की है | इसके अलावा तक़रीबन 450 या फिर इससे ज्यादा हत्याओं का आरोपी था निजामी |

2010 से कानूनी लड़ाई लड़ रहा था निजामी –
बता दें कि मतिउर रहमान निजामी वर्ष 2010 से ही कानूनी लड़ाई इस मुद्दे पर लड़ रहा था | बांग्लादेश की सबसे बड़ी इस्लामी पार्टी के प्रमुख को वर्ष 2014 में ही फांसी दिए जाने के आदेश कोर्ट ने जैर कर दिए थे | जिसके बाद निजामी ने देश की सर्वोच्च न्यायालय में फांसी की सजा के खिलाफ अर्जी दी थी लेकिन बीते 5 मई को देश की सर्वोच्च न्यायालय ने भी निजामी की अर्जी को ख़ारिज कर दिया था | जिसके बाद निजामी से कहा गया था कि यदि वो जिंदा रहना चाहे तो देश की राष्ट्रपति के समक्ष अपनी दया याचिका डाल कर उनके समक्ष अपने सभी गुनाहों को मान ले तो उसकी सजा को शायद माफ़ी दी जा सकती है | लेकिन निजामी ने ऐसा करने से मना कर दिया था जिसके बाद बांग्लादेश सरकार ने तुरंत ही निजामी को फांसी दिए जाने के आदेश जारी कर दिए थे |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY